IAS Officer कैसे बने ?

1

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

IAS देश का सबसे पावरफुल जॉब  होता है इसलिए कहीं न कहीं हर किसी का सपना होता है आइएएस अधिकारी (IAS Officer) बनना।आइएएस अधिकारी बनना इतना आसान नहीं होता है इसके लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है तभी हम सफल हो पाते हैं। कड़ी मेहनत करने के बाद भी कुछ लोग सफल नहीं हो पाते हैं क्योंकि उन्हें पता नहीं होता है कि आइएएस अधिकारी बनने के लिए क्या-क्या करना चाहिए।

आज हम इस पोस्ट में बताएंगे कि IAS Officer क्या होता है ? IAS कैसे बनते है? इसके लिए क्या -क्या योग्यता होने चाहिए ? इसके लिए कितने परीक्षा देने पड़ते है ? इनका सेलरी कितना होता है? तो आइए जानते हैं IAS Officer बनने के बारे में।

आइएएस अधिकारी (IAS Officer )क्या होता है?

IAS का पूरा नाम भारतीय प्रशासनिक सेवा (Indian Administrative Services) होता है। IAS बनने के लिए संघ लोक सेवा आयोग  यानि  UPSC (Union public Service Commission) सिविल सर्विसेस की परीक्षा पास करनी पड़ती है।

अर्थात UPSC द्वारा आयोजित सिविल सर्विस परीक्षा के माध्यम से भारतीय प्रशासनिक सेवा में चुने जाने वाले अफसरों को IAS कहा जाता है।इसमें सेलेक्शन एक बहुत बड़ा एचीवमेंट होता है।

IAS बनने के बाद देश के निर्माण में बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं। IAS Officers में बहुत से रैंक होते हैं जैसे

  • कलेक्टर(Collector),
  • कमिश्नर(Commissioner),
  • हेड आफ पब्लिक सेक्टर यूनिट्स(Head of public sector units),
  • चीफ सेक्रेटरी(Chief Secretary),
  • कैबिनेट सेक्रेटरी (Cabinet Secretary)आदि पोस्ट होते हैं।

UPSC एक संस्था है जिसको IAS अभ्यर्थियों का चयन करने के लिए जिम्मेदारी दी गई है। हर साल 1000 लोग 26 सेवाओं के लिए चयन किये जाते हैं जिनकी अलग -अलग पोस्ट होती है।

आइएएस अधिकारी (IAS Officer) बनने के लिए योग्यता और उम्र सीमा होने चाहिए ?

  • IAS अधिकारी बनने के लिए आपको किसी भी स्ट्रीम (B.A.,B.Com.,B.Sc.) या किसी भी विषय से स्नातक(graduation) होना आवश्यक होता है।
  • अगर आप ग्रेजुएशन के आखिरी साल में है तो भी आप इसके लिए परीक्षा दे सकते हैं।
  • IAS परीक्षा देने के लिए आपकी उम्र कम से कम 21 साल होने चाहिए।
  • सामान्य वर्ग(general category)के लोग अधिकतम 32 साल की उम्र तक दे सकते हैं। पिछड़े वर्ग(OBC Category) के लोग अधिकतम 35 साल की उम्र तक दे सकते हैं। तथा एससी और एसटी वर्ग(SC and ST)के लोग अधिकतम 37 साल के उम्र तक दे सकते हैं।

आप आइएएस अधिकारी(IAS)का परीक्षा कितनी बार दे सकते हैं ?

अगर आप सामान्य वर्ग (General Category) में आते हैं तो IAS की परीक्षा 6 बार दे सकते हैं और अगर आप पिछड़े(OBC Category) वर्ग में आते हैं तो 9 बार इसकी परीक्षा दे सकते हैं तथा अगर आप SC  या ST वर्ग में आते हैं तो जितनी बार चाहे इसकी परीक्षा दे सकते हैं जब तक कि आपकी उम्र 37 साल की न हो जाए।

आइएएस अधिकारी (IAS Officer) की परीक्षा कैसे होती है ?

IAS अफसर की परीक्षा तीन चरण(stage) में पूरी होती है –

1.प्रारंभिक परीक्षा (Prelims exam)
प्रारंभिक परीक्षा में दो पेपर 200-200 अंक के होते हैं। इसमें वस्तुनिष्ठ प्रश्न (multiple choice question) पूछे जाते हैं। इस परीक्षा में आपको कम से कम 33% अंक लाना होता है। अपनी मेहनत के अनुसार आप अधिक अंक भी प्राप्त कर सकते है। इसमें समय 2 घंटे के लिए मिलता है।

2.मुख्य परीक्षा (Main exam)
मुख्य परीक्षा में आपको 9 पेपर देने होते हैं और पूरा मार्क्स 750 अंकों का होता है। इस परीक्षा में 9 विषय में से 7 विषय पर अधिक फोकस किया जाता है क्योंकि 7 विषय से ही मेरिट लिस्ट बनायी जाती है।यह पूरी तरह से लिखित परीक्षा होती है।

3.साक्षात्कार (Interview):

दोनों परीक्षा क्लियर करने के बाद आपका साक्षात्कार होता है।जो भी अभ्यर्थी इन सभी चरणों को पूरा करते हैं, वो देश की इस सबसे प्रतिष्ठित सेवा के लिए चुन लिए जाते हैं।

आइएएस अधिकारी(IAS Officer) की परीक्षा देने के लिए क्या -क्या पढ़ना चाहिए ?

आपको अस्थायी सामग्री जैसे न्यूजपेपर( इकोनोमिक Newspaper) जैसे बिजनेस स्टैंडर्ड), पत्रिकाएं ( क्रोनिकल (chronical), योजना, कुरुक्षेत्र आदि), रेडियो न्यूज सुनना चाहिए तथा दुरदर्शन न्यूज भी सुनना चाहिए। इसके साथ-साथ आपके पास IAS का सलेबस और अनसाल्वड क्योश्चन पेपर भी होने चाहिए। इसके अलावा 4 सिविल परीक्षा(IAS) के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है – राजनीति विज्ञान(political science),भूगोल(geography), इतिहास(history),अर्थशास्त्र(economics)

ये सभी का किताब NCERT पैटर्न के होने चाहिए। इन सब के अलावा और भी किताब होती है जैसे- अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्ध(International relations), (Environment), कला एवं संस्कृति(Art and Culture), आन्तरिक सुरक्षा (Internal Security), नीतिशास्त्र सत्यनिष्ठा एवं अभिवृत्ति(Integrity and Aptitude), निबंध(essay), सामान्य अध्ययन(general science),  आर्थिक-सर्वेक्षण आदि।

IAS बनने के लिएइन सभी किताबों को पढ़ना पड़ता है।

आइएएस अधिकारी (IAS Officer) की सेलरी कितनी होती है ?

सातवें आयोग के सिफारिशों के अनुसार हम पूर्ण IAS कैडर को 8 ग्रेड में बाँट सकते हैं। हर ग्रेड के लिए बेसिक पे या वेतन और ग्रेड पे अलग होती है।

1.जूनियर स्केल
इनमें इनका बेसिक पे 50,000-1,50,000 रूपये होती है तथा ग्रेड पे 16,500 होता है । इसमें सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (SDM) या सब कलेक्टर(SDO) 2साल के प्रमोशन के बाद बन सकते हैं।

2.सीनियर टाइम स्केल
इसमें इनका बेसिक पे 50,000-1,50,001 तक होती है तथा ग्रेड पे 20,000 होती है और सेवा काल 5 साल के लिए होता है। इसमें डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट(DM) या कलेक्टर या सरकारी मंत्रालयों का ज्वाइंट सेक्रेटरी आते हैं।

3.जूनियर एडमिनिस्ट्रेटिव ग्रेड
इनकी बेसिक पे 50,000-1,50,002 तक होती है तथा ग्रेड पे 23,000 तक होती है और इनका सेवाकाल 9 साल तक होती है।इसमें स्पेशल सेक्रेटरी या विभिन्न सरकारी विभागों का प्रमुख होते हैं।

4.सेलेक्शन ग्रेड
इनकी बेसिक पे 1,00,000-2,00,000 तक होती है और ग्रेड पे 26,000 होती है।तथा इनका 12-15 साल का होता है।इनमें मंत्रालय के सचिव आते हैं।

5.सुपर टाइम स्केल
इनकी बेसिक पे 1,00,000 -2,00,000 तक होती है और ग्रेड पे 30,000 तक होती है तथा इनका सेवाकाल 17-20 साल होता है।इनमेंप्रमुख सरकारी विभाग का मुख्य सचिव आते हैं।

6. एबव सुपर टाइम स्केल
इनकी बेसिक पे 1,00,000-2,00,000 तक होती है और ग्रेड पे 30,000 तक होती है।इनका सेवाकाल अलग -अलग होता है तथा इनमें पद भी अलग-अलग होता है।

7.सर्वोच्च स्केल
इनकी बेसिक पे 2,40,000, होती है और ग्रेड पे अनिवार्य नहीं होता है।इनका सेवाकाल अलग -अलग होता है।इनमें राज्य के प्रमुख सचिव, भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों का केन्द्रीय सचिव आते हैं।

8.कैबिनेट सेक्रेटरी ग्रेड
इनका बेसिक पे 2,70,000 होता है और ग्रेड पे अनिवार्य नहीं होता है. तथा इनका सेवाकाल अलग-अलग होता है।इसमें भारत के कैबिनेट सेक्रेटरी आते हैं।

सिविल सेवा का समाज में बहुत बड़ा महत्व है इसलिए IAS अधिकारियों को ये सभी सुविधाएं दी जाती है जैसे-आवास, परिवहन ड्राइवर सहित, सुरक्षा, बिल, मेडिकल, पेंशन आदि।

आइएएस अधिकारी(IAS Officer) के कार्य एवं जिम्मेदारियां क्या होते है ?

1.इनका कार्य शहर में कानून और व्यवस्था को बनाए रखना है।
2.केंद्र और राज्य सरकार की नीतियों को जमीनी स्तर पर लागू करना।
3.सम्बंधित मंत्रालय या विभाग के मंत्री प्रभारी के परामर्श से नीति के निर्माण और कार्यान्वयन सहित सरकार के प्रशासन और दैनिक कार्यवाही को सम्भालना।
4.जनता और सरकार के बीच मध्यवर्ती के रूप में कार्य करना।
5.भारत सरकार के पूरे विभागों और मंत्रालयों का नेतृत्व करना है।
6.आइएएस अधिकारी द्विपक्षीय और बहुपक्षीय वार्ता में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करते हैं।
7.ये केन्द्रीय सरकार, राज्य सरकारों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों मे रणनीतिक और महत्वपूर्ण पदों पर काम करते हैं।
8.भारत के चुनाव आयोग की दिशा में भारत में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए प्रशासन के विभिन्न स्तरों पर कराते हैं।

आज हम इस पोस्ट में बताए कि IAS अधिकारी क्या होता है कैसे बनते हैं तथा इनके कार्य क्या है।उम्मीद है आज की हमारी ये पोस्ट पसंद आयी होगी।

1 Comment
  1. Jai prakash says

    Good information

Leave A Reply

Your email address will not be published.