CCC कोर्स क्या है ? इसको करने के क्या फायदे हैं ?

1

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

वर्तमान समय में कम्प्युटर एक अनिवार्य आवश्यकता बन गया है, क्योंकि इसका उपयोग प्रत्येक क्षेत्र में हो रहा है। अतः विभिन्न कम्पनियां तथा संस्थाएँ प्रशिक्षित एवं जानकारी से युक्त लोगों के चयन में अधिक रूचि लेती हैं जिसके कारण कम्प्यूटर सम्बन्धित जानकारी अभ्यर्थियों के लिए आवश्यक हो गई है। कम्प्यूटर सभी सरकारी, अर्द्धसरकारी कार्यालयों का भी एक प्रमुख आवश्यकता बन गया है। विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कम्प्यूटर विषय से सम्बंधित डिप्लोमा, डिग्री या कोई सर्टिफिकेट आवश्यक हो गया है। इसी प्रकार का एक कोर्स है CCC

आज हम आपको CCC से सम्बंधित सभी जानकारियों के बारे में बताएंगे ,जैसे कि CCC कोर्स क्या है, CCC कोर्स करना क्यों आवश्यक है ,इसे कहाँ से और कैसे किया जाता है, इसका परीक्षा कैसे होता है, इस कोर्स के करने के क्या फायदे हैं ? तो आइए जानते हैं CCC कोर्स के बारे में।

CCC का Full Form : CCC का full form होता है – Course on Computer Concepts 

CCC अर्थात कोर्स आन कम्प्यूटर कान्सेप्ट्स क्या है ?

CCC का पूरा नाम कोर्स आन कम्प्यूटर कान्सेप्ट्स (Course on Computer Concept) तथा हिंदी में कम्प्यूटर अवधारणा पाठ्यक्रम होता है। यह एक सर्टिफिकेट कोर्स है। इस कोर्स को Nielit (National institute of electronics and information technology) राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान द्वारा चलाया जाता है।  जिसे Nielit के नाम से भी जाना जाता है।

इसमें आपको बेसिक कम्प्यूटर का नालेज दिया जाता है। इसमें आपको कम्प्यूटर के साथ-साथ इन्टरनेट के बारे में भी सिखाया जाता है। इसे सिखने के बाद आप कम्प्यूटर आपरेटर बन जाते हैं। CCC एक गवर्नमेंट प्रुव्ड कोर्स होता है।

CCC कोर्स करने के लिए क्या योग्यता होने चाहिए ? Eligibility for CCC :

 


इस कोर्स को कोई भी व्यक्ति जो थोड़ा बहुत हिन्दी या अंग्रेजी जानता है वो इस कोर्स को कर सकता है। यानि इस कोर्स को करने के लिए कोई विशेष शैक्षिक योग्यता नहीं होती है। जो व्यक्ति 10वीं,12वीं, ग्रेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट पास किया हो CCC कोर्स कर सकता है।

CCC कितने समय का कोर्स होता है ? Course Duration ?

CCC 80 घंटे यानि तीन महीने का कोर्स होता है। यानि इसे तीन महीने में पूरा कर लिया जाता है।

CCC कोर्स करने के लिए कितना फीस लगता है ?

इस कोर्स को करने के लिए 3200 -3600 रुपये तक हो सकती है। अलग -अलग इन्स्टीट्यूट में अलग-अलग नियम होते है और अलग-अलग फीस भी लेते हैं। इससे थोड़ा कम और थोड़ा अधिक भी हो सकता है।

CCC कोर्स को कहाँ से और कैसे सिखाया जाता है ?

CCC कोर्स आप Nielit के आर्थोराइज्ड या रजिस्टर्ड जो इन्स्टीट्यूट होते हैं, उस इन्स्टीट्यूट से आप CCC कोर्स को कर सकते हैं। इसमें आपको 25 घंटे का थ्योरी, 50 घंटे का प्रैक्टिकल तथा जो कोर्स आप सिखे है उन्हें फिर से 5 घंटे रिवाइज कराया जाता है।

CCC कोर्स का क्या पाठ्यक्रम होता है ?

1.कम्प्यूटर का परिचय –

a.कम्प्यूटर क्या है ?
b.कम्प्यूटर सिस्टम के अवयव
c.हार्डवेयर और साफ्टवेयर के कान्सेप्ट
d.डेटा/सूचना का रिप्रजेंटेशन
e.डेटा प्रोसेसिंग के कान्सेप्ट
f. IECT के कान्सेप्ट

2.GUI पर आधारित आपरेटिंग सिस्टम का परिचय

a. आपरेटिंग सिस्टम के बेसिक्स
b. यूजर इंटरफेस
c. आपरेटिंग सिस्टम सिम्पल सेटिंग
d. फाइल एवं डायरेक्टरी मैनेजमेंट
e. फाइल के प्रकार

3.वर्ड प्रोसेसिंग के एलिमेंट्स

a. वर्ड प्रोसेसिंग के बेसिक्स
b. डाकुमेंट्स को खोलना और बन्द करना
c. टैक्स्ट बनाना और उसे मैनिपुलेट करना तथा फार्मेटिंग करना
d. टेबल की मैनिपुलेशन

4.स्प्रैडशीट

a. इलेक्ट्रॉनिक स्प्रैडशीट विण्डो के अवयव
b. सैलों का मैनिपुलेशन
c. फंक्शन और चार्ट्स

5.कम्प्यूटर कम्युनिकेशन और इंटरनेट

a. कम्प्यूटर नेटवर्क के बेसिक्स
b. इंटरनेट और इंटरनेट पर सर्विसेज
c.कम्प्यूटर पर इंटरनेट को एक्सेस करने के लिए तैयार करना

6.WWW और वेब ब्राउजर्स

A. वेब ब्राउजिंग साफ्टवेयर और सर्च इंजन
B. वेब ब्राउजर को कान्फिगर करना

7.कम्युनिकेशन एवं कोलाबोरेशन

A. ई-मेल के बेसिक्स एवं ई-मेल के प्रयोग
B. एडवांस ई-मेल फीचर्स
C.इन्स्टैड मैसेजिंग और कोलाबोरेशन

8.छोटे प्रजेन्टेशन तैयार करना

A. पावरपॉइंट के बेसिक्स
B. प्रेजेंटेशन तैयार करना
C. स्लाइड्स की तैयारियां एवं स्लाइड को सुन्दर बनाना
D. स्लाइड्स का प्रेजेंटेशन तथा स्लाइड शो

ये सब CCC के पाठ्यक्रम में आता है। और यही सब इसके अन्दर सिखाया जाता है।

CCC कोर्स का परीक्षा कैसे दिया जाता है ?

CCC कोर्स को पूरा करने के बाद उसकी परीक्षा करायी जाती है। इसका परीक्षा आनलाइन कराया जाता है। CCC कोर्स की परीक्षा आप उस इन्स्टीट्यूट में भी दे सकते है जिस इन्स्टीट्यूट में आप पढ़ते हैं या इसका सेंटर भी Nielit द्वारा मिलता है तो जहाँ भी आपको सेंटर मिलता है, उस इन्स्टीट्यूट में आपकी परीक्षा करायी जाती है। इसमें 100 प्रश्न पूछे जाते हैं और सिर्फ 90 मिनट यानि डेढ़ घंटे में हल करना होता है।

CCC कोर्स का सर्टिफिकेट कैसे मिलता है ?

CCC का परीक्षा होने के बाद 10 या 15 दिन के बाद इन्टरनेट पर यानि Nielit के वेबसाइट पर सर्टिफिकेट आ जाता है। यह डिजिटल सर्टिफिकेट होता है इसे आप घर बैठे ही डाउनलोड करके प्राप्त कर सकते हैं। यदि आप जिस इन्स्टीट्यूट से कोर्स सीखा है वहाँ से अगर आप सर्टिफिकेट लेना चाहते है तो आप वहाँ से प्राप्त कर सकते हैं।

CCC कोर्स करना क्यों आवश्यक है ?

CCC सरकारी नौकरी के लिए अनिवार्य शैक्षिक योग्यता हो गई है। कई राज्यों में विभिन्न सरकारी पदों हेतु CCC अनिवार्य कर दिया गया है। आने वाले समयों में अधिकतर सरकारी नौकरी के लिए अनिवार्य कर दिया जाएगा अतः आपको CCC करना जरुरी हो जाएगा।वर्तमान में विभिन्न सरकारी नौकरियाँ जैसे क्लर्क, स्टेनोग्राफर, पटवारी आदि जैसे पदों पर जहाँ डाक्यूमेंटशन की आवश्यकता है, मेन आवेदन करने के लिए CCC उत्तिर्ण होना आवश्यक है।

CCC कोर्स करने के क्या फायदे हैं ?

1.CCC करने से आपको कम्प्यूटर की सभी बेसिक चीजों के बारे में पूरी जानकारी मिल जाती है। जैसे -इंटरनेट चलाना, माइक्रोसॉफ्ट आफिस के फिचर का इस्तेमाल करना आदि।
2.आजकल लगभग सभी सरकारी नौकरी या प्राइवेट कम्पनी में भी कम्प्यूटर का डिप्लोमा माँगा जाता है तो आप वहां पर CCC सर्टिफिकेट का इस्तेमाल कर सकते हैं।

आज हम इस पोस्ट में CCC के बारे में बताये। उम्मीद है आपको आज की ये पोस्ट आपको पसंद आयी होगी।

1 Comment
  1. Jai prakash Kushwaha says

    Good information

Leave A Reply

Your email address will not be published.