BEO क्या होता है ? BEO में Selection कैसे होता है ?

हेलो दोस्तों, हमारे ब्लॉग में आपका स्वागत है। आज हम इस पोस्ट में बताएंगे कि BEO क्या होता है?,  BEO बनने के लिए क्या योग्यताएँ   होनी  चाहिए?,   इसके आवेदन के लिए कितनी आयु होनी चाहिए?, इसकी सैलरी कितनी होती है?, इस पद के लिए चयन प्रक्रिया क्या होती है?,  इस परीक्षा की तैयारी कैसे करें?, इसके कार्य क्या है? के बारें में बतायेंगे ।

वैसे तो अधिकतर  युवा की इच्छा होती है कि वह एक सरकारी अफसर बने। इसके लिए वे कठिन परिश्रम भी करते हैं लेकिन सभी लोग सफल नहीं हो पाते हैं। सफलता प्राप्त करने के लिए कठिन परिश्रम, धैर्य और विश्वास और इसके साथ-साथ सटीक कार्ययोजना की की आवश्यकता होती है।  जिसके उपरांत आपको सफलता मिलती है। तो आइए बीईओ के बारे में जानते हैं –

BEO (बीईओ) क्या होता है ?

BEO ka full form-

BEO का फुल फार्म Block Education Officer  होता है। हिन्दी में इसे  खंड शिक्षा अधिकारी होता है। बीईओ की पोस्ट ग्रुप सी  के अन्तर्गत आती है। ब्लॉक एजुकेशन आफिसर पदों पर भर्ती सम्बन्धित राज्यों के लोक सेवा आयोग द्वारा की जाती है। सामान्यतः बीईओ के पोस्ट पर डायरेक्ट रिक्रूटमेंट होती है जिसके लिए राज्यों के राज्य पब्लिक सर्विस कमीशन द्वारा की जाती है। इन पोस्ट पर समय-समय निकलने वाली  भर्तियों के आधार पर की जाती है।

BEO (बीईओ) के लिए शैक्षणिक योग्यता क्या होने चाहिए ?

बीईओ बनने के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी सब्जेक्ट से ग्रेजुएट (स्नातक) के साथ LT डिप्लोमा या बीएड (शिक्षा स्नातक) होने चाहिए।

Nationality (राष्ट्रीयता) – Indian (भारतीय)

BEO(बीईओ ) बनने के लिए आयु-सीमा कितनी होनी चाहिए ?

बीईओ बनने के लिए आपकी उम्र सामान्यतः कम से कम 21 साल तथा अधिकतम 40 साल होने चाहिए। अलग-अलग राज्यों के लोक सेवा आयोग द्वारा आयु-सीमा निर्धारित होती है। और विभिन्न राज्यों के लोक सेवा आयोग द्वारा आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को उम्र में छुट प्रदान किया

BEO (बीईओ ) पद के लिए चयन प्रक्रिया क्या होती है ?

बीईओ पद के लिए अभ्यर्थियों का चयन लिखित परीक्षा के आधार पर किया जाता है। यह दो चरणों में पूरा किया जाता है –

  • प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary exam)
  • मुख्य परीक्षा (Main exam)

प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary exam)-

सबसे पहले लिखित परीक्षा का आयोजन किया जाता है। लिखित परीक्षा का आयोजन लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित किया जाता है।
प्रारंभिक परीक्षा में एक पेपर होता है  जो दो घंटे का होता है तथा   पेपर कुल  300  अंकों का होता है।

Paper General Studies – 120 प्रश्न, जो 300 अंकों का होता है।

प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary exam) का पाठ्यक्रम

  • सामान्य अध्ययन-
  1. भारत का इतिहास, भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन।
  2. भारतीय संविधान, भारतीय संस्कृति ।
  3. भारतीय अर्थव्यवस्था, भारतीय कृषि, वाणिज्य एवं व्यापार ।
  4. भारत के सन्दर्भ में (जनसंख्या, परिस्थितिकी और नगरीकरण)
  5. विश्व भूगोल, भारतीय भूगोल, भारत के प्राकृतिक संसाधन ।
  6. समसामयिक राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय महत्वपूर्ण धटनाए।
  7. सामान्य बुध्दिमता जिसमे तर्क एवं तर्क शक्ति।
  8. विशिष्ट ज्ञान में- शिक्षा सांस्कृतिक, कृषि, औद्योगिक व्यापार, राज्य विशेष से सामाजिक परम्परा और रहन-सहन ।
  9. प्रारम्भिक अंकगणित, बीजगणित और ज्यामिति 10th स्तर इत्यादि।

 मुख्य परीक्षा (Main exam)-

प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण  करने के बाद आपको मुख्य परीक्षा में सम्मिलित किया जाता है। इस परीक्षा में अभ्यर्थियों  को सामान्य अध्ययन, सामान्य हिन्दी,  निबंध का होता है  ।

Paper No (1)  सामान्य अध्ययन (General Studies) – 120 प्रश्न, 200 अंक तथा  समय (3 घंटे)

Paper No (2) सामान्य हिंदी (General Hindi)  तथा निबंध (Essay)  – 200 अंकों (जिसमे 100 अंक  सामान्य हिंदी और 100 अंक निबंध के ) , समय (3 घंटे )

मुख्य  परीक्षा में अच्छे अंको से उत्तीर्ण और मेरिट सूची में आने वाले  अभ्यर्थियों के लिए लोक सेवा आयोग द्वारा एक मेरिट लिस्ट जारी किया जाता है।  इस मेरिट लिस्ट के अनुसार चुने गए अभ्यर्थियों को Block Education Officer ( खंड शिक्षा अधिकारी) के लिए नियुक्त कर लिया जाता है।

मुख्य परीक्षा (Main exam) का पाठ्यक्रम-

  • सामान्य अध्ययन ( General Studies)-
  1. भारत का इतिहास
  2. भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन और भारतीय संस्कृति
  3. भारत का भूगोल ।
  4. भारतीय राजव्यवस्था ।
  5. भारतीय कृषि ।
  6. समसामयिक राष्ट्रीय विषय और प्रकरण सामाजिकता के संदर्भ में(भारत और विश्व) ।
  7. भारतीय अर्थव्यवस्था।
  8. अन्तर्राष्ट्रीय अफेयर्स और संस्थान।
  9. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विकास, संचार और विस्तार।
  10. शिक्षा में तत्कालिक(समसामयिक) विकास (भारत के संदर्भ में) ।
  11. राज्य विशेष के सामाजिक परम्परा, रहन-सहन, संस्कृति कृषि, औद्योगिक व्यापार के विषय में ज्ञान।
  • सामान्य हिंदी एवं निबंध –
  1. अपठित गद्यांश का संक्षेपण, उससे सम्बंधित प्रश्न, रेखांकित प्रश्नों को व्याख्या एवं उसका उपर्युक्त शीर्षक ।
  2. शासकीय एवं अर्द्धशासकीय पत्र, कार्यालय आदेश/ज्ञाप, अधिसूचना प्रेस विज्ञप्ति और परिपत्र सम्बंधी पात्र लेखन/आलेखन ।
  3. वाक्यों का हिन्दी से अंग्रेज़ी और अंग्रेज़ी से हिन्दी में अनुवाद ।
  4. अनेकार्थी शब्द, विलोम शब्द ,पर्यावाची शब्द , तत्सम एवं तदभव, क्षेत्रीय एवं विदेशी( शब्द भण्डार), वर्तनी, अर्थबोध, शब्द रूप, सन्धि, समास, क्रियाऐ, हिन्दी व्याकरण, विराम चिह्न, शब्द रचना, वाक्य रचना, अर्थ, मुहावरे एवं लोकोक्तियां, राज्य की मुख्य बोलियां तथा हिन्दी भाषा के प्रयोग में होनें वाली अशुद्धिया ।

हिन्दी निबंध- इसके अन्तर्गत दो उपखण्ड से एक-एक निबंध (कुल मिलकर दो निबंध ) लिखने होंगे । प्रत्येक निबंध की विस्तार सीमा 700 शब्द होगी। निबंध हेतु निम्नवत्  क्षेत्र होगे:-

(अ) (i) साहित्य एवं संस्कृति (ii) राष्ट्रीय विकास योजनाएं/ क्रियान्वयन ।

(iii) राष्ट्रीय, अन्तर्राष्ट्रीय, सामयिक सामाजिक समस्याएं/निदान।   

(ब) (i) विज्ञान, पर्यावरण (ii) प्राकृतिक आपदाये एवं उनके निवारण

(iii) कृषि, उद्योग एवं व्यापार  

 BEO (बीडीओ) परीक्षा की तैयारी कैसे करें ?

बीईओ की परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए अभ्यर्थियों को  राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय तथा घटनाओं के बारे में, इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के बारे में, विश्व भूगोल, भारत भूगोल,  भारतीय राजनीति और प्रशासन, सामाजिक विकास, पर्यावरण, जनसंख्या, तर्क शक्ति , अंकगणितीय और सांख्यकीय , सामान्य विज्ञान , सामान्य हिंदी, निबंध लेखन, पत्र लेखन  आदि की तौयारी करनी चाहिए।

इससे सम्बंधी धटनाचक्र, परीक्षा मंथन, परीक्षा वाणी, धटना चक्र की दृष्टि इत्यादि की अध्ययन सामग्री का उपयोग कर सकते है। आपको न्यूज पेपर, रोजाना पढ़ना चाहिए इससे आपको बहुत ही मदद मिलती है। इसके साथ-साथ ही सेल्फ स्टडी भी करना चाहिए। आप इंटरनेट की भी मदद लेकर भी पढ़ाई कर सकते हैं।

बीईओ (BEO) की सैलरी कितनी होती है ?

यह एक C ग्रुप की Gazetted पोस्ट है इसका वेतनमान (सैलरी) 9300 -34800 रुपये तथा 4800 ग्रेड पे है।

इसे भी देखें-

Police Sub Inspector कैसे बने ? SI बनने के लिए क्या करे ?

BDO (बीडीओ) क्या होता है ? इसकी चयन की प्रक्रिया क्या होती है?

बीईओ (BEO) के क्या कार्य है ?

इसके प्रमुख कार्य निम्नलिखित हैं –

  • BEO का कार्य समय-समय पर परिषदीय विद्यालयों में जाकर शिक्षा की गुणवत्ता की जाँच करना होता है ।
  • बच्चों के सर्वांगीण विकास के संदर्भ में पाठ्य-पुस्तकों और पाठ्य सहगामी क्रियाओ के लिए आवश्यक उपकरण प्रदान करना व् उसकी समय-समय पर जाँच करना ।
  • विद्यालयों में चयनित शिक्षणेत्तर और गैर शिक्षणेत्तर कर्मचारियों के वेतन व् चयन संबन्धी आकड़े का व्योरा उपलब्ध करना तथा इसके सम्बन्ध में उच्च अधिकारियों को सूचित करना ।
  • अशासकीय अनुमानित विद्यालयों की विभिन्न अनुदानों के लिए आवेदन पत्र एवं अतिपूर्ति प्रपत्रों की जाँच के पश्चात् उच्चाधिकारियों को प्रेषित करना ।
  • ब्लाक स्तर तक खेल-कूद स्काउटिंग एवं रेस क्रास आदि की प्रतियोगिता एवं अन्य सहपाठ्यक्रमों, क्रिया-कलापों का नियोजन करना ।
  • विद्यालय की समस्त छात्रविधियो को सूचित व्यवस्थित करना एवं उनके दुरपयोग को रोकना ।
  • छात्रों के संख्या मानक के आधार पर अध्यापकों की पद स्थापना हेतु बेसिक शिक्षा अधिकारी को प्रस्ताव भेजना ।
  • राज्य व केंद्र सरकार के विभिन्न अधिकारियों के साथ ब्लॉक स्तर पर किए जा रहे कार्यों एवं नीतियों के क्रियान्वयन में बीईओ को सहयोग करना होता है।

दोस्तों मै आशा करता हूँ की मेरे द्वारा BEO के बारें में जो जानकारी  दी गयी  आपको समझ में आयी होगी और साथ में पसंद  भी आयी होगी  जो अभ्यार्थी BEO बनने के सपने सजोये है वे इस पोस्ट से अपनी आवश्यक जानकारी प्राप्त कर लाभ ले सकते है ।

आप इस जानकरी को अपने दोस्तों में शेयर करें तथा यदि कोई सुझाव या कोई Comments करना चाहते है तो Comment Box में Comment कर सकते है ।

 

 

 

 

Share Karo Na !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment