Paramedical Course (पैरामेडिकल कोर्स) क्या है ? तथा इसके पाठ्यक्रम व जॉब के अवसर

हैलो दोस्तों, हमारे ब्लॉग में आपका स्वागत है। आज हम इस पोस्ट में एक ऐसे मेडिकल से सम्बंधित पैरामेडिकल कोर्स के बारे में बताएंगे जिसे करने के बाद छात्रों का भविष्य इस क्षेत्र में बेहतर हो सकता है।

यह क्षेत्र उन छात्रों के लिए बहुत ही बेहतर है जो एक डॉक्टर सहायक के रूप में कार्य करना चाहते हैं। इस कोर्स को करने के सबसे अच्छा फायदा यह होता है कि आपको इसमें विभिन्न तरह के कोर्स करने के लिए मिलते हैं तथा कोर्स करने के बाद नौकरी करने के लिए भी बहुत से क्षेत्र उपलब्ध होते हैं।

पैरामेडिकल कोर्स में कई प्रकार के कोर्स होते हैं जिन्हें आप अपनी रुचि के अनुसार कर सकते हैं। लेकिन बहुत से छात्रों को पता नहीं होता है कि पैरामेडिकल करने के लिए कौन सा करना चाहिए। इसलिए आज हम पैरामेडिकल कोर्स के बारे में विस्तार से बताऐंगे तो आइये जानते हैं कि पैरामेडिकल कोर्स क्या होता है ?

पैरामेडिकल कोर्स (Paramedical Course ) क्या है ?

Contents

Paramedical courses skilled building courses होते हैं। इन Courses  में Students  को इस तरह से ट्रेन किया जाता है कि वोडाक्टर की रिक्वायरमेंट की हिसाब से Medical Procedure कोर्स ही तरीके से Conduct कर सके। इसमें प्रोफेशनल ट्रेनिंग दी जाती है। इसमें Lab Technician,  X -ray Technician,  CT scan Technician,  MRI Technician और Workers कार्य करते हैं।

Paramedical में जो भी कार्य होते हैं उनको सपोर्ट और सप्लीमेंट देना जैसे कि Physiotherapy, Dialysis,  X-rays technology , Radiography , Medical laboratory technology ऐसे ही और भी क्षेत्र हैं जो मेडिकल के काम को बाहरी तौर से सपोर्ट करती है और सप्लीमेंट प्रदान करती है।

पैरामेडिकल क्षेत्र को हम Pre hospital Treatment भी कह सकते हैं। पैरामेडिकल क्षेत्र में कार्य करने वाले व्यक्ति को एक सहायक चिकित्सक या  Assistant doctor के रूप में जाना जाता है।

पैरामेडिकल कोर्स (Paramedical Course ) की शैक्षिक योग्यता क्या है ?

पैरामेडिकल कोर्स करने के लिए आपको किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड या विश्वविद्यालय से 10+2  पास करना अनिवार्य होता है।

12 वीं में (Physics, Chemistry, Biology) विषय के साथ कम से कम 50% अंकों के साथ पास होना अनिवार्य होता है। इसके बाद आप डिग्री कोर्स और पैरामेडिकल का डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं।

पैरामेडिकल कोर्स (Paramedical Course ) का पाठ्यक्रम क्या है ?

भारत में पैरामेडिकल कोर्स कराने के लिए बहुत से कालेज हैं। पैरामेडिकल पाठ्यक्रम में तीन तरह के कोर्स कराये जाते हैं, जिन में बैचलर डिग्री कोर्स, डिप्लोमा कोर्स और सर्टिफिकेट कोर्स है।

डिग्री कोर्स, डिप्लोमा कोर्स और सर्टिफिकेट कोर्स की योग्यता के अनुसार आप कोई भी कोर्स कर सकते हैं–

Bachelor Degree Paramedical Course –

  1. Operation Theatre Technology in B.Sc.
  2. X -rays Technology in B.Sc.
  3. Radiography and Medical Imaging in B.Sc.
  4. Dialysis Technology in B.Sc.
  5. MLT (Medical Lab Technician) in B.Sc.
  6. Bachelor of Physiotherapy
  7. Odiology in B.Sc.
  8. Anesthesia Technology in B.Sc.
  9. Audiology and Speech therapy in B.Sc.
  10. Cardiac care Technology in B.Sc.
  11. Sc. Nursing

Diploma in Paramedical Course –

  1. DOTT (Diploma in Operation Theatre)
  2. X-ray Technology in Diploma
  3. Radiography and Medical Imaging in Diploma
  4. Dialysis Technology in Diploma
  5. Medical Lab Technician in Diploma
  6. Physiotherapy in Diploma
  7. Nursing Care Assistant in Diploma
  8. ANM (Auxiliary Nurse Midwifery)
  9. GNM (General Nursing and Midwifery)
  10. Anesthesia Technology in Diploma
  11. Audiology and Speech therapy in Diploma
  12. Diploma in Ophthalmic Technology

Certificate Paramedical Course –

  1. Certificate in X-ray Technician
  2. Certificate in Radiology Technician
  3. Certificate in Operation theatre Assistant
  4. Certificate in Nursing Care Assistant
  5. Certificate in ECG and CT Scan Technician
  6. Certificate in Dental care Assistant
  7. Certificate in home based Health care
  8. Certificate in Dialysis Technician
  9. Certificate in MRI Technician

GNM Kya hota hai

GNM Kya Hota Hai? तथा इसके बारें में आवश्यक जानकारी-

पैरामेडिकल कोर्स (Paramedical Course) में कैसे एडमिशन ले सकते हैं ?

पैरामेडिकल कोर्स में सबसे पहले 10+2 पास करना अनिवार्य होता है। उसके बाद आपको Entrance Exam देना होता है और जो भी यह परीक्षा उत्तीर्ण करता है वह इस कोर्स को करने के योग्य हो जाता है। अलग-अलग महाविद्यालय में इस कोर्स को करने के लिए नियम भी अलग होता है।

आप पैरामेडिकल कोर्स गवर्नमेंट और प्राइवेट कालेज दोनों से कर सकते हैं। बहुत से प्राइवेट कालेजों में Direct Admission भी होता है। इसमें आप डायरेक्ट एडमिशन भी ले सकते हैं। लेकिन इसमें कोर्स के अनुसार फीस आपको 40 हजार से 1 लाख रुपये तक सलाना देना पड़ सकता है।

लेकिन सरकारी कालेजों में आपको फीस कम देना पड़ सकता है। इसमें आपको 5 हजार से 30 हजार सलाना देना पड़ सकता है। आप अपने रुचि और योग्यता के अनुसार कोई भी कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं।

पैरामेडिकल कोर्स (Paramedical Course) में कैरियर कैसे बना सकते हैं ?

Paramedical Course में बहुत से Job Oriented Courses हैं, जिसमें आप अच्छा कैरियर बना सकते हैं। कुछ ऐसे कोर्स के बारे में बता रहे हैं जिसमें आने वाले समय में डिमांड और भी बढ़ने वाली है।

डायलिसिस (Dialysis)-

डायलिसिस उस पेसेन्ट का किया जाता है, जिसकी किडनी सही तरीके से काम नहीं करती है। इसमें मशीन के द्वारा जो शरीर में Waste Materials होता है जैसे Salt, Water और बहुत सारे Chemicals उनको शरीर से बाहर निकालते हैं।

इसमें आपको ऐसी प्रोफेशनल ट्रेनिंग दी जाती है कि आप Dialysis Machine को सही तरीकें से मेनटेन कर सके और जो मरीज डायलिसिस करवाता है उसका भी आप सही तरीके से ध्यान रख सकें।

डायलिसिस कोर्स करने के लिए आपको 12वीं (PCB/PCM) Art, Commerce से पास होना जरूरी होता है। जो स्टूडेंट्स PCB/PCM से पास है वो Dialysis की Degree Programme कर सकते हैं।

यह कोर्स 4 साल का होता है। और जो स्टूडेंट्स कला, कामर्स से 12 वीं पास है वो इसके Diploma Programme कर सकते हैं। डिप्लोमा कोर्स 2 साल का होता है। इसमें सैलरी पैकेज भी अच्छी मिलती है। शुरुआत में 15-20 हजार तक मिल जाती है लेकिन जैसे-जैसे आपको Experience मिलती जाती है 45-60 हजार तक मिल जाती है।

बैचलर ऑफ आपरेशन थियेटर (B.Sc. in Operation Theatre) –

इसमें आपको आपरेशन थियेटर के अन्दर और बाहर सही तरीके से मेनटेन करने के लिए प्रोफेशनल ट्रेनिंग दी जाती है। इस कोर्स को करने के लिए 12वीं (PCB) पास है वो इसके डिग्री प्रोग्राम को कर सकते हैं।

इसका Duration 4 साल का होता है लेकिन जो कला और कामर्स से 12वीं पास है वो इसके डिप्लोमा प्रोग्राम को कर सकते हैं। इसका Duration 2 साल का होता है।

इसमें सैलरी पैकेज शुरुआत में 15-20 हजार मिल सकता है और Experience Gain करने के बाद 50-55 हजार तक हो सकता है।

बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी (B.Sc.in Physiotherapy) –

इसमें आपको मरीज को Exercise करने के बारे में बताना होता है।उनकी Exercise कैसे करवानी है उसके बारे में सिखाया जाता है। जैसे कि अगर किसी की Joint Surgery हुई है तो उसे कैसे Exercise करवानी चाहिए। इस कोर्स को करने के लिए आपको 12वीं पास होना अनिवार्य होता है।

इसमें भी आप डिग्री और डिप्लोमा प्रोग्राम कर सकते हैं। इसमें डिग्री कोर्स के लिए 4 साल और डिप्लोमा कोर्स के लिए 2 साल होता है। इसमें सैलरी पैकेज 20-25 हजार शुरुआत में मिल सकता है तथा Experience के साथ-साथ सैलरी भी अच्छी होती जाती है।

बैचलर ऑफ नर्सिंग (B.Sc. in Nursing)-

इसमें जो भी हास्पिटलाइज्ड पेसेन्ट होते हैं, उनका सही से ध्यान कैसे जाए ,बताया जाता है। इस कोर्स को करने के लिए 12वीं पास होना अनिवार्य होता है। इसका Duration 4 साल का होता है। इसमें आपको सैलरी पैकेज 25-35 हजार मिल जाता है।

आप इसे Nursing को ANM (Auxiliary Nurse Midwifery) और GNM (General Nursing and Midwifery) के रूप में कर सकते हैं। ANM और GNM कोर्स डिप्लोमा कोर्स होता है। इसमें सैलरी पैकेज15-20 हजार होता है।

मेडिकल लैब टेक्निशियन MLT (Medical Lab Technician)-

इसमें लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी के बारें में पढ़ाया जाता है। इसमें Laboratory Equipment, Urine test,  Blood test और भी बहुत कुछ सिखाया जाता है। इस कोर्स को करने के लिए 12 वीं पास होना अनिवार्य होता है। यह कोर्स 3 साल का होता है।

इसमें आपको सैलरी पैकेज 15-20 हजार शुरुआत में तथा Experience बढ़ने के साथ सैलरी भी बढ़ती जाती है।

कार्डियक केयर टेक्नोलॉजी (Cardiac Care Technology)-

इसको आप B.Sc. in Cardiac Care Technology कह सकते हैं। इस कोर्स में जो हृदय  से सम्बन्धित इक्विपमेंट या टेस्ट होते हैं, उन टेस्ट को कैसे हैन्डल करना होता है उसमें सिखाया जाता है। इस कोर्स को 12वीं के बाद कर सकते हैं। यह कोर्स 3 साल का होता है। इसमें आपको सैलरी पैकेज 25-30 हजार शुरुआत में मिल जाता है।

बैचलर ऑफ आडियोलाजी एंड स्पीच लंग्वेज पैथोलॉजी (Bachelor of Audiology and Speech Pathology)-

इसमें आप ऐसे मरीज को देखते हैं जिनकी बोलने की और सुनने की क्षमता धीरे-धीरे खत्म हो रही है।

इस कोर्स को करने के लिए 12वीं पास अनिवार्य होता है। यह कोर्स 4 साल का      होता है। इसकी सैलरी पैकेज शुरुआत में 25-30 हजार आसानी से मिल जाता है तथा 5-7 साल Experience मिलने के बाद 50-60 हजार तक हो सकता है।

बैचलर ऑफ मेडिकल इमेजिंग टेक्नोलॉजी (B.Sc. Medical Imaging Technology)-

इसमें स्टूडेंट्स को MRI , Ultrasound, CT Scan करना है तो इस मशीन को सही तरीके से कैसे Perform करते है, सिखाया जाता है। इस कोर्स को करने के लिए 12वीं पास करना अनिवार्य होता है। यह 3 साल का कोर्स होता है। इसमें सैलरी पैकेज शुरुआत में 15-20 हजार मिल जाता है तथा Experience मिलने के बाद 40-45 हजार भी मिल जाता है ।

पैरामेडिकल कोर्स (Paramedical Course) करने के क्या फायदे हैं ?

1.पैरामेडिकल कोर्स में कई प्रकार के कोर्स कराये जाते है जिससे आपको बहुत से क्षेत्रों में बेहतर रोजगार प्राप्त हो सकते हैं।

2.पैरामेडिकल कोर्स करने के बाद आप सरकारी और प्राइवेट सेक्टर दोनों में जाब प्राप्त कर सकते हैं।

3. इस कोर्स को करने के बाद कई ऐसे क्षेत्र हैं जो करने के बाद आप खुद का क्लिनिक खोल सकते हैं। जैसे- MLT (Medical Lab Technician)।

4. सभी अस्पताल को पैरामेडिकल स्टाफ की जरुरत होती है, उसके बिना कोई भी अस्पताल या प्राइवेट सेक्टर कम्पनी कार्य नहीं करती है।

5. यह एक Professional Course होता है जिसे करने के बाद आपको Professional Job प्राप्त होती है। जैसे अस्पताल, क्लिनिक, सार्वजनिक स्वास्थ्य केन्द्र ,चिकित्सा प्रयोगशालाओं में तकनीशियन या सहायक के रूप में कर सकते हैं।

जिस प्रकार मेडिकल फील्ड ग्रो हो रही है उसी प्रकार पैरामेडिकल फील्ड भी ग्रो हो रहा है और आने वाले समय में पैरामेडिक की डिमांड और भी बढ़ने वाली है।

अगर आपको Paramedical field में रुचि हैं और आप इस फील्ड में कैरियर बनाना चाहते हैं तो आप अपने रुचि के अनुसार कोई भी पैरामेडिकल कोर्स कर सकते हैं। और अपना बेहतरीन कैरियर बना सकते हैं।

Share Karo Na !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 thoughts on “Paramedical Course (पैरामेडिकल कोर्स) क्या है ? तथा इसके पाठ्यक्रम व जॉब के अवसर”

Leave a Comment