Large Cap Fund ,Mid Cap Fund और Small Cap Fund क्या होता है ? किसमें निवेश करना बेहतर ?

Large Cap Fund – जब हम पैसा निवेश करते हैं तो अक्सर Stock market में Large Cap, Mid Cap और Small Cap कंपनियों के बारे में सुनते रहते हैं। कभी कहा जाता है कि Large Cap कंपनियों में निवेश करना अच्छा होता है, कभी कहा जाता है 

कि Mid Cap और कभी Small Cap की कम्पनियाँ अच्छी होती है,उसमें निवेश करना चाहिए। बहुत लोगों के बारे में इसकी जानकारी नहीं होती है। आज हम इस पोस्ट में Large Cap Fund ,Mid Cap Fund और Small Cap Fund के बारे में जानेंगे। तो आइये जानते हैं कि Large Cap Fund ,Mid Cap Fund,और Small Cap Fund क्या है ?

जितने भी Stocks होते हैं उन्हें क्लासिफाइड करने के लिए काफी तरीके होते हैं ।

उनमें से एक तरीका होता है Market Capitalisation । 

जब भी शेयर बाजार का classification Market Capitalisation के द्वारा किया जाता है तो वहां पर Stocks को तीन हिस्सों में बाँटा जाता है – Large Cap ,Mid Cap,Small Cap ।

इनके  के बारे में जानने से पहले हम Market Capitalisation के बारे में जानेंगे कि ये क्या होता है ?

Market Capitalisation क्या है ?

ये मार्केट वेल्यू होते हैं जितने भी total issues शेयर होते हैं किसी भी कम्पनी के। ये जो total शेयर्स होते हैं ये किसी के पास भी हो सकते हैं ,

जैसे Promoters के पास, FIS के पास, DIIS के पास, Common या Retail निवेशकों के पास भी हो सकते हैं।

मार्किट Capitalisation  को Calculate करने के लिए हम किसी कम्पनी के एक शेयर के price को कम्पनी के टोटल शेयर्स से गुणा कर देते हैं।

Market Capitalisation =Share price × No. of outstanding shares

जैसे -मान लेते हैं एक कम्पनी का शेयर Price 100 रुपये है और कम्पनी का टोटल शेयर 10 करोड़ है।

Market Cap =100 ×10 crore=1000 crore Rs.

कंपनियों को Market Capitalisation के आधार पर आंका जाता है।

Market Capitalisation के मुताबिक पहली 100 कम्पनियाँ Large Cap के श्रेणी में आती है।

101 से लेकर 250 तक की कम्पनियाँ Mid Capके श्रेणी में आती है तथा 251 और उससे नीचे कम्पनियाँ Small Cap की श्रेणी में आता है

Large Cap Fund क्या है ?

Large Cap Fund, mutual fund का एक प्रकार होता है। जो कम्पनी के एसेट होते हैं, जिनका Market Capitalisation 10,000 करोड़ से ज्यादा होता है ,उसे Large Cap Fund कहते है।Large Cap Fund अपना निवेश generally बड़ी कंपनियों के शेयर में करता है।

ये जो बड़ी कंपनियों के शेयर होते हैं सामान्यतः Bluechip होते हैं। Bluechip का सबसे पहला Fund SBI Bluechip fund जिसमें Large Cap में Investment करते हैं। Large Cap में निवेश करना ज्यादा सुरक्षित होता है क्योंकि उतार -चढ़ाव में Large Cap काफी हद तक अपने पोजिशन को मेनटेन करती है। इसमें  निवेश कम रिस्की होता है।

Large Cap Fund में निवेश क्यों करना चाहिए ?

  • Large Cap म्युचुअल फंड, Mid Capऔर Small Cap से कम अस्थिर होते हैं।
  • इसमें बड़ी कंपनियों में निवेश किया जाता है इसलिये इन झंडों में कम जोखिम होता है।
  • Large Cap कंपनियों के पास लम्बे समय तक व्यवसाय होता है, ऐसे कंपनियों के बारे में डेटा या विवरण आसानी से उपलब्ध होते हैं।
  • Large Cap में निवेश सुरक्षित होता है क्योंकि बड़ी कम्पनियाँ उतार -चढाई में भी अपने पोजिशन को मेनटेन रखते हैं।

ये है Large Cap Fund कंपनियां :- 3M India, AC,Adani Ports, Aditya Birla Nuv., Aditya Birla Cap

Mid Cap Fund क्या है ?

Mid Cap Fund का Market Capitalisation 2000 -10,000 करोड़ के बीच में आता है। जो कम्पनियाँ इन Market Capitalisation के बीच में आता है उसे Mid Cap Stocks कहा जाता है। Mid Cap Fund ,मिड साइज कंपनियों के शेयर में निवेश करता है। 

कंपनियों के कारोबार में लगातार इज़ाफा होता रहता है। मिड साइज की कम्पनियाँ तेजी से तरक्की कर रही हैं और Large Cap Fund कम्पनियाँ बनने की राह पर तेजी से बढ़ रही है। Mid Cap Fund में रिस्क और रिटर्न दोनों ज्यादा होता है।

Mid Cap Fund एक प्रकार का स्टाक Fund है जो Mid Cap कम्पनियों में निवेश करता है। एक कम्पनी का आकार अपने बाजार पंजीकरण के आधार पर निर्धारित होता है। Mid Cap Fund में ज्यादातर शेयर स्थापित व्यवसाय करने वाली कम्पनी होती है, जिनमें ग्रोथ की काफी सम्भावना होती है। इस तरह की कंपनियों में तेजी से बढ़ने और भविष्य में Large Cap बनने की सम्भावना होती है।

Mid Cap Fund में निवेश क्यों करना चाहिए ?

  • मिड कैप फण्ड में निवेश करने वाली कंपनियों में Large Cap की तुलना में वृद्धि की सम्भावना अधिक होती है।
  • इसके शेयरों में Small Cap स्टाक की तुलना में अस्थिरता कम होती है।
  • मिड कैप फण्ड नये नवाचारों और मार्केट में बदलावों के लिए तेजी से प्रतिक्रिया करते हैं, क्योंकि वे अपने स्थान पर अधिक केन्द्रित और विशिष्ट होते हैं।
  • ये  अक्सर Large Cap Funds से बेहतर प्रदर्शन करते हैं।

ये है Mid Cap Fund कंपनियां :- Mirae Asset Emerging Bluechip Fund, Axis Midcap Fund, SBI Focused Equity Fund, DSP Midcap Fund, L&T Midcap Fund.

Small caps funds –

छोटी कम्पनियाँ जो future में बड़ी हो सकती है ये Small Cap कम्पनियाँ कहलाती है।जो सारे Small Cap Fund है ये Small Market Capitalisation कम्पनी में निवेश करती है। Small Cap का Market Capitalisation 2000 करोड़ से कम होता है।

जब आप Small Cap mutual fund में निवेश करते हैं तो ये पैसा Fund मैनेजर Small Cap वाली कम्पनियाँ हैं, उसी में निवेश करते हैं। Small Cap कंपनियों का market capitalisation कम होता है। Small Cap कंपनियों का ग्रोथ तेजी से होता है। इसमें रिस्क भी ज्यादा होता है। इसमें रिटर्न भी ज्यादा आता है लेकिन ये अस्थिर होते हैं क्योंकि इसमें उतार-चढ़ाव बहुत ज्यादा होता है।

Long term के लिए आप Small Cap Fund में निवेश कर सकते हैं क्योंकि इसमें लंबी अवधि में उतार -चढ़ाव का असर कम होता है।

Small cap Company,Large Cap Company और Mid Cap Company के बाद कम्पनियाँ आती है, वही Small Cap Company कहलाती है। 

खासकर इसमें नयी कम्पनियाँ ही आती हैं। इसमें कुछ ऐसी कम्पनियाँ भी बेहद कम समय में बहुत आगे निकल जाती है। इस तरह की कंपनियों में तेजी से बढ़ने और Future में एक Mid Cap कम्पनी बनने की सम्भावना होती है।

Small Cap Fund में निवेश क्यों करना चाहिए ?

  • स्माल कैप  कम्पनियां बड़ी मात्रा में मौजूद होती है।
  • स्माल कैप  सिग्मेंट से अल्फा जेनरेट करने की सम्भावना ज्यादा होती है।
  • Fund मैनेजर के पास निवेश के ज्यादा विकल्प होते हैं।
  • रिटर्न के लिहाज से Small Cap Fund अच्छे होते हैं, क्योंकि इसमें रिटर्न ज्यादा मिलता है।
  • इसमें long term goals के लिए निवेश किया जाता है, क्योंकि इसमें लम्बी अवधि में उतार -चढा़व का असर कम होता है।

 

ये है Small Cap Fund कंपनियां :- Essar Shipping Ltd. , Equitas Holdings Ltd. , CL Educate Ltd. , Tera Software Ltd. , DCM Shriram Ltd.

Large Cap Fund, Mid Cap Fund और Small Cap Fund में क्या अन्तर है ?

1.Return Potential-

  • Large mutual funds में Return potential moderate रहता है क्योंकि ये कम्पनी इतनी ज्यादा बड़ी होती है कि इनके लिए नये बिज़नेस और growth opportunity ढूंढना थोड़ा सा मुश्किल होता है।
  • Mid Cap में Return Potential काफी ज्यादा रहता है, क्योंकि ये इसकी growth की Opportunity काफी ज्यादा हो सकती है।जबकि Small Cap Fund में भी Return Potential काफी ज्यादा रहता है। इसलिए लोग इसमें निवेश करने के लिए सोचते हैं।

2.Risk –

  • Large cap fund में रिस्क कम होता है क्योंकि ये stable होता है। जब कभी बाजार गिरती है तो large cap stocks बिज़नेस होते हैं तो इनका स्टाक भी कम होता है।
  • मिड कैप फण्ड में लार्ज कैप फण्ड की तुलना में रिस्क ज्यादा रहता है। अगर मार्केट नीचे आती है तो Large Cap Stocks की तुलना में Mid Cap Stocks जल्दी नीचे जाती है।
  • जबकि स्माल कैप फण्ड  में इन दोनों Fund से काफी ज्यादा रहता है। जब मार्केट नीचे जाती है तो स्माल कैप फण्ड  कम्पनियाँ सबसे पहले जो उनके स्टाक होते हैं नीचे जाते हैं और काफी गिरावट देखने को मिल जाती है।

3.Liquidity –

  • लार्ज कैप फण्ड में लिक्विडिटी काफी ज्यादा होती है, क्योंकि बहुत सारे Institutional Investors हैं, Retail Investors हैं लार्ज कैप  कंपनियों के अभद्र खरीदी- बेच चलती रहती है।
  • मिड कैप फण्ड में लिक्विडिटी अच्छी रहती है। इसमें स्माल फण्ड के मुकाबले तो काफी ज्यादा रहती है और लार्ज कैप  के मुकाबले कम रहती है।
  • जबकि स्माल कैप फण्ड  में लिक्विडिटी कम हो जाती है क्योंकि अगर selling एक बार स्टार्ट होती है तो लिक्विडिटी कम हो जाती है तो हो सकता है कोई खरीददार नहीं मिलें। अगर खरीददार कम है तो Price और नीचे जाने के chances हो जाते है और अगर मार्केट ऊपर जा रही हो तो खरीददार कम होने के कारण Price ऊपर जाने की भी संभावनाएं ज्यादा बढ़ जाती है।

4.Volatility –

  • लार्ज कैप फण्ड के अन्दर Volatility कम होती है क्योंकि इसमें Stocks बहुत ज्यादा नीचे और ऊपर नहीं जाता है।
  • मिड कैप फण्ड के अंदर Volatility ज्यादा होती है क्योंकि Price ऊपर नीचे जाता रहता है। एक ही दिन के अन्दर Price 1 या 2 या 3% ऊपर नीचे चला जाता है।
  • और स्माल कैप फण्ड में Volatility काफी ज्यादा होती है। इसमें Price काफी ऊपर -नीचे चला जाता है । मिड कैप  की तुलना में काफी ज्यादा हो जाती है।

5.Institutional Investors –

  • Institutional Investors लार्ज कैप फण्ड  के अन्दर काफी ज्यादा निवेश करते हैं ।
  • मिड कैप फण्ड में भी Institutional Investors काफी ज्यादा करते हैं क्योंकि मिड कैप कम्पनियों को लार्ज कैप  कम्पनियां भविष्य में बनाया जाए।
  • जबकि  स्माल कैप फण्ड  में Institutional Investors बहुत कम निवेश करते हैं।

इसे भी पढ़े :-

आज हम इस पोस्ट में लार्ज कैप फण्ड मिड कैप फण्ड और स्माल कैप फण्ड के बारे में बताये।

उम्मीद है ये पोस्ट आपको पसंद आयी होगी।

Share Karo Na !
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

1 thought on “Large Cap Fund ,Mid Cap Fund और Small Cap Fund क्या होता है ? किसमें निवेश करना बेहतर ?”

Leave a Comment