UPSC क्या है? UPSC ka full form तथा इसकी पूरी जानकारी

हैलो दोस्तों हमारे ब्लॉग में आपका स्वागत है। UPSC का नाम तो आपने सुना होगा। यह एक केंद्रीय परीक्षा संस्था है। UPSC परीक्षा में हर साल लाखों उम्मीदवार शामिल होते हैं। आज हम इस पोस्ट में UPSC के बारे में जानेंगे कि UPSC क्या है ?,UPSC का कार्य क्या है ?, इसके द्वारा आयोजित परीक्षाओं के लिए आपकी योग्यता क्या होनी चाहिए ?, इसकी परीक्षा आप कितनी बार दे सकते हैं ? , इसकी परीक्षा का पाठ्यक्रम क्या होता है ?, तो आइए जानते हैं UPSC के बारे में-

UPSC क्या है ?

UPSC को पहले PSC  के नाम से जाना जाता था। PSC (Public Service Commission) हिन्दी में लोक सेवा आयोग इसकी स्थापना 1 अक्टूबर 1926 में हुई थी। बाद में 26 अक्टूबर 1950 में PSC में कुछ बदलाव करके एवं इसके अधिकारों में विस्तार करके इसे UPSC (Union Public Service Commission) संघ लोक सेवा आयोग नाम दिया गया।

UPSC भारत सरकार के लोक सेवा के पदाधिकारियों की नियुक्ति के लिए परीक्षाओं का संचालन करता है। यह भारत सरकार के अंदर Group A और Group B की पोस्ट के लिए Requirement प्रदान करवाती है। UPSC द्वारा सिविल सेवा परीक्षा हर साल तीन चरणों में किया जाता है- प्रारंभिक परीक्षा , मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार। इन तीनों चरणों में सफल अभ्यर्थी की प्राथमिकता और वरीयता क्रम के हिसाब से चयन होता है UPSC द्वारा आयोजित परिक्षाओं में  IAS, IPS, IFS, NDA, CDS, CPF(AC), तथा अन्य केन्द्रीय सेवाओं में चयन हेतु परीक्षाओं का आयोजन करती है।

UPSC का मुख्यालय(Headquarter) नयी दिल्ली में है तथा इसका एक अध्यक्ष(Chairman) होता है।

UPSC में एक अध्यक्ष और 10 सदस्य होते हैं। यें सदस्य किसी लोक सेवा के सदस्य होते हैं जो न्यूनतम 10 वर्षों के अनुभव प्राप्त हों। इनका कार्यकाल 6 साल या इनकी आयु 65 वर्ष तक चलता है। आयोग के सदस्य राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किए जाते हैं। कोई भी सदस्य अपने कार्य काल के बीच में या कभी भी अपना इस्तीफा राष्ट्रपति को दे सकता है।

UPSC का Full Form क्या है ?

UPSC का full form Union Public Service Commission तथा हिन्दी में संघ लोक सेवा आयोग होता है।

UPSC Exam के लिए क्या योग्यता होने चाहिए ?

UPSC Exam के लिए आपको स्नातक (Graduation) होना अनिवार्य होता है। परन्तु NDA की योग्यता 10+2 होती है, आप किसी भी Stream (Science, Art, Commerce से हो पर आप  इसका Exam दे सकते  है।

UPSC Exam देने के लिए आपकी उम्रसीमा क्या होने चाहिए ?

UPSC  के अन्तर्गत ICS(indian civil service) देने के लिए सामान्य वर्ग के लिए कम से कम 21 वर्ष तथा अधिक से अधिक 32 वर्ष होने चाहिए। अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 21 वर्ष से 35वर्ष होने चाहिए। पिछड़ा वर्ग के लिए 3 वर्ष का उम्र सीमा में छुट मिलती है। SC और ST के लिए 21 वर्ष से 37 वर्ष होने चाहिए । SC और ST  के लिए 5 वर्ष का उम्र-सीमा में छुट मिलती है। तथा शारिरीक विकलांगता के लिए 21 वर्ष से 42 वर्ष होने चाहिए।

नोट- NDA की के आयु सीमा 16½ से 19½ तक होती है तथा शैक्षिक योग्यता (10+2) PCM।

UPSC Exam आप कितनी बार दे सकते हैं ?

UPSC परीक्षाओं में अलग-अलग पोस्ट के लिए अलग-अलग मानदण्ड है जैसे- ICS के लिए सामान्य श्रेणी के अभ्यर्थी 6 बार परीक्षा दे सकते हैं। अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) श्रेणी के अभ्यर्थी 9 बार दे सकते हैं तथा अन्य श्रेणी जैसे SC और ST के लिए 37 वर्ष की आयु तक आप जितनी बार चाहे परीक्षा दे सकते हैं। इस प्रकार अन्य पोस्ट परीक्षाओं के लिए अलग-अलग होते है ।

UPSC परीक्षा का Syllabus क्या है?

UPSC द्वारा आयोजित विभिन्न परीक्षाओ के अलग-अलग पाठ्यक्रम (Syllabus) होते जिसको आप इसके फॉर्म भरने के उक्त वेबसाइट() द्वारा जिसके लिए आवेदन कर रहे है उसका Syllabus download  कर सकते है। UPSC परीक्षा में दो परीक्षा होता है- प्रारंभिक परीक्षा(Preliminary Exam) मुख्य परीक्षा(Main Exam)।

प्रारंभिक परीक्षा में दो पेपर होता है। प्रश्न पत्र हिन्दी और अंग्रेजी दोनों भाषा में होता है। दोनों पेपर समय अवधि 2-2 घंटे का होता है।

प्रथम प्रश्न पत्र के लिए पाठ्यक्रम इस प्रकार है

1.राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय महत्व की सामायिक घटनाएँ

2.भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन

3.भारत एवं विश्व का भूगोल प्राकृतिक, सामाजिक और आर्थिक भूगोल

4.भारतीय राज्यतंत्र और शासन-संविधान, राजनैतिक प्रणाली, पंचायती राज, लोक नीति, अधिकारों सम्बन्धी मुद्दे आदि।

5.आर्थिक और सामाजिक विकास- सतत विकास, गरीबी, समावेशन, जनसंख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र में की गई पहल आदि।

6.पर्यावरणीय पारिस्थितिकी जैवविविधता और मौसम परिवर्तन सम्बन्धी सामान्य मुद्दे ,जिनके लिए विषय गत विशेषज्ञता आवश्यक नहीं है।

7.सामान्य विज्ञान

द्वितीय प्रश्न पत्र के लिए पाठ्यक्रम इस प्रकार है

1.बोधगम्यता

2.संचार कौशल सहित अंतर ववैयक्तिक कौशल

3.तार्किक कौशल और विश्लेषणात्मक क्षमता

4.निर्णय लेना और समस्या समाधान

5.सामान्य मानसिक योग्यता

6.आधार भूत संख्यन

मुख्य परीक्षा (Main Exam) का Syllabus-

मुख्य परीक्षा में 9 पेपर्स होता है। प्रत्येक पेपर वर्णनात्मक प्रकार का है। इसमें 2 Qualifying Paper हैं- कोई भी भारतीय भाषा(Indian Language) व अंग्रेजी(English) । इसमें 4 प्रश्न पत्र सामान्य अध्ययन से होता है। सामान्य अध्ययन का पाठ्यक्रम डिग्री स्तर का होता है। इसमें वैकल्पिक विषय में 2 पेपर होता है ।

मुख्य परीक्षा( Main Exam) का पाठ्यक्रम इस प्रकार है

इसमें 9 पेपर्स होते हैं–

1.निबंधउम्मीदवार को एक विनिर्दिष्ट विषय पर निबंध लिखना होता है। विषयों के विकल्प दिये जाएंगे ।

2.सामान्य अध्ययन 1भारतीय विरासत और संस्कृति, विश्व का इतिहास एवं भूगोल और समाज

3.सामान्य अध्ययन 2 शासन व्यवस्था, संविधान, शासन प्रणाली, सामाजिक न्याय तथा अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध

4.सामान्य अध्ययन 3 प्रोद्यौगिकी, आर्थिक विकास, जैवविविधता, पर्यावरण सुरक्षा तथा आपदा प्रबंधन

5.सामान्य अध्ययन 4 नीतिशास्त्र, सत्यनिष्ठा और अभिरुचि

प्रश्न पत्र 6, 7 (वैकल्पिक प्रश्न पत्र1 और 2) Agriculture, Geology, Political science, Sociology, Physics, Philosophy, Law, Economics, History, Psychology, Zoology, Geography, Public Administration आदि हैं। उम्मीद वार दी गई वैकल्पिक विषयों की सूची में से किसी भी वैकल्पिक विषय का चयन कर सकते हैं।

प्रश्न पत्र 8,9 (दो क्वाली फाई प्रश्नपत्र)भारतीय भाषाओं और अंग्रेजी पर अर्हक प्रश्न

UPSC  परीक्षा की क्या प्रक्रिया होती है?

UPSC द्वारा सिविल सेवा की परीक्षा हर साल तीन चरणों में आयोजित की जाती है– प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार। प्रारंभिक परीक्षा वस्तुनिष्ठ प्रश्न यानि MCQ (Multiple choice Question) के आधार पर होता है। जिससे उम्मीदवार की General Studies और CSAT (Civil Service Aptitude test) का आकलन किया जाता है। इसमें 400 अंकों का दो पेपर 200-200 अंकों का होता है। इस परीक्षा में आपको कम से कम 33% मार्क्स लाना होता है क्योंकि यह क्वालीफाइंग पेपर होता है, जिसमें 33% मार्क्स की जरुरत होती है। इस परीक्षा को क्वालीफाई करने के बाद मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है।

मुख्य परीक्षा में आपके द्वारा चुने गए विषयों का पेपर होते हैं। इसमें 9 पेपर होते हैं। इसमें 2 क्वाली फाइंग पेपर हैं-Indian Language और English । यह 300 अंकों का होता है। लेकिन ये अंक मुख्य परीक्षा में नहीं गिने जाते हैं। इसमें 4 General Studies  पेपर कुल 1000 अंकों का होता है। प्रत्येक पेपर 250 अंकों का होता है। इसमें वैकल्पिक विषयमें 2 पेपर होता है जो 500 अंकों का होता है। दोनों पेपर 250-250 अंकों का होता है। निबंध 250 अंकों का होता है। मुख्य परीक्षा क्वाली फाई करने के बाद Interview के लिए बुलाया जाता है।

इन्टरव्यू में सिविल सेवा व्यक्तित्व टेस्ट होता है। इसके बाद मुख्य परीक्षा और इन्टरव्यू के आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार किया जाता है। उसके बाद आपको ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाता है।

UPSC द्वारा आयोजित कुछ परीक्षाएं निम्न हैं-

IAS – Indian Administrative Services

IPS – Indian Police Service

IFS – Indian Forest Services

IES –Indian Economic Services

NDA –National Defence Academy

NA – Navel Academy

CDS – Combined Defence Services

CMS- Combined Medical Services

ISS – Indian Statistical Services etc.

UPSC की तैयारी कैसे करें ?

UPSC की परीक्षाओं की तैयारी के लिए आपको धैर्य, त्याग, परिश्रम और लक्ष्य के प्रति समर्पण की भावना अति आवश्यक है । इसमें आपको अपनी लक्ष्य के प्रति सटीक कार्य योजनाएं ही आपको सफलता दिलाएगी इसलिए आप एक सूत्री कार्यक्रम से जुड़कर अपने लक्ष्य को ध्यान में रखकर अध्ययन प्रारम्भ करे आपको सफलता अवश्य प्राप्त होगी ।

आपको अस्थायी अध्ययन सामग्री जैसे न्यूजपेपर (Newspaper ), पत्रिकाएं- क्रोनिकल(chronical), प्रतियोगिता दर्पण, योजना,  कुरुक्षेत्र आदि),  रेडियो न्यूज तथा दुरदर्शन न्यूज भी सुनना चाहिए। इसके साथ-साथ आपके पास UPSC का सलेबस और अनसाल्वड क्योश्चन पेपर भी होने चाहिए।

इसके साथ  सिविल सेवा परीक्षा के लिए इतिहास (history) भूगोल(geography),  राजनीति विज्ञान (political science), अर्थशास्त्र (economics),। ये सभी का किताब NCERT पैटर्न के होने चाहिए।  इन सब के अलावा और इससे सम्बंधी धटनाचक्र, परीक्षा मंथन, परीक्षा वाणी, धटना चक्र की दृष्टि इत्यादि अध्ययन सामग्री का उपयोग कर सकते है।

अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्ध (International relations), (Environment), कला एवं संस्कृति (Art and Culture), आन्तरिक सुरक्षा (Internal Security), नीतिशास्त्र सत्यनिष्ठा एवं अभिवृत्ति(Integrity and Aptitude), निबंध(essay), सामान्य अध्ययन(general science),  आर्थिक-सर्वेक्षण से संबधित अध्ययन सामग्री आदि।

इसे भी देखे –

IAS Officer कैसे बने ?

IPS Officer क्या होते है ? इसकी योग्यताएं एवं चयन की प्रक्रिया क्या होती है ?

NDA (एनडीए) क्या होता है ? NDA में जानें लिए क्या योग्यता होनी चाहिए ?

UPSC के क्या कार्य हैं ?

1.UPSC का प्रमुख कार्य केंद्र तथा राज्यों की लोक सेवा के लिए सदस्यों का चयन करना है।

2.यह संघ की सेवाओं की नियुक्ति के लिए विभिन्न परीक्षाएं जैसे-  IAS, IPS, NDA, IFS, CMS, CDS आदि को आयोजित करती है।

3.सरकार के तहत विभिन्न सेवाओं और पदों के लिए भर्ती नियमों का गठन और संशोधन करना है।

4.भारत के राष्ट्रपति द्वारा आयोग को प्रेषित किसी भी मामले में सरकार को परामर्श देता है।

5.यह पदोन्नति, प्रति नियुक्ति और अवशोषण के माध्यम से विभाग के अधिकारी को नियुक्त करता है।

दोस्तों इस पोस्ट द्वारा यह बताया गया है कि UPSC किस-किस परिक्षाओ का आयोजन करती है और यदि कोई student इसके द्वारा आयोजित परीक्षाओ की तैयारी की सोच रहा हो तो इसके द्वारा उसे आवश्यक सामान्य जानकारी प्राप्त हो सके। यदि पोस्ट अच्छी लगे तो कमेंट शेयर जरुर करें ।

 

Share Karo Na !
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment