Ph.D Course क्या है ? कैसे करे ? इसके बारे में पूरीं जानकारी

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

 

Ph.D Course क्या है ? कैसे करे ?

हम सभी जानते हैं कि आज के समय में हर कोई एक अच्छी सी नौकरी पाना चाहते हैं, और उसके लिए वह दिन रात मेहनत करता है। ताकि उसको भविष्य मे किसी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पडे। एक अच्छी नौकरी पाने के लिए हर कोई अपने रुचि के अनुसार कोर्स करते हैं।

जब आप कोई कोर्स करने जाते है तो सबसे पहले आपको उस कोर्स के बारे में पूरी जानकारी होना बहुत आवश्यक होता है। जैसे इस कोर्स को कैसे किया जाता है,इसके लिए कितनी शैक्षणिक योग्यता होनी चाहिये, इस तरह के कोर्स को करने के बाद आपको किस तरह की नौकरी मिलेगी या इस कोर्स को करने के बाद नौकरी मिलने की कितनी सम्भावना है, आदि यह सब जानकारी होना बहुत आवश्यक होता है। आज हम इसी तरह के एक कोर्स के बारे में बताने जा रहे है जिसका नाम पीएच०डी है।

पीएच०डी० एक उच्च स्तर का कोर्स है। इस कोर्स को पूरा करने के बाद आपको डॉ०(Dr.) की उपाधि मिल जाती है। अगर आपको किसी कालेज का प्रोफेसर या लेक्चरर बनना है तो आपको पहले पीएच०डी० की डिग्री प्राप्त करना होगा। आज हम इस पोस्ट में बताएंगे कि पीएच०डी० क्या है?  पीएच०डी० करने के लिए क्या योग्यता होने चाहिए पीएच०डी० कितने साल का होता है? इसकी कितनी फीस है? तो आइए जानते है पीएच०डी० के बारे में पूरी जानकारी।

 पीएच०डी० कोर्स क्या है?

     पीएच०डी० एक उच्च शैक्षिक डिग्री कोर्स है। पीएच०डी० का पूरा नाम या फुल फार्म डॉक्टर आफ फिलासफी (Doctor of Philosophy) होता है जिसे हम संक्षेप में Ph.D. कहते हैं। Ph.D.  कोर्स पूरा करने के बाद आपके नाम के साथ डॉ.(डॉक्टर) लगाया जाता है। डॉ की उपाधि प्राप्त करना किसी के लिए बहुत ही गर्व की बात होती है।

Ph.D करने के बाद आप किसी यूनिवर्सिटी मे प्रोफेसर या शोधकर्ता के रूप में अपना करियर बना सकते हैं। अगर आप किसी यूनिवर्सिटी का प्रोफेसर बनना चाहते है तो आपको Ph.D. कोर्स करना जरुरी है, तभी आप प्रोफेसर बन सकते है। जब आप Ph.D करते है तो आपको अपने सब्जेक्ट मे गहन अध्ययन करना पडता है। गहन अध्ययन करके आप अपने सब्जेक्ट के एक्सपर्ट हो जाते है, तथा अपने सब्जेक्ट पर शोध करने के योग्य हो जाते है। शोध करने के कारण शोधकर्ता कहलाते हैं।

  पीएच. डी. कोर्स कितने साल का होता है?

पीएच. डी कोर्स 3-6 साल का होता है। पीएच०डी० पाठ्यक्रम की अवधि कम से कम 3 तथा अधिक से अधिक 6 साल की होती है। जब आप पीएच०डी० करते हैं तो इसमें थिसीस  जमा करना होता है जो 3-6 साल के अंदर ही जमा करना होता है।

Ph. D. करने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिये ?

  Ph.D. करने के लिए आपको किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से स्नातक ( बी०ए०, बी०एस सी०,बी०काम०) तथा परास्नातक या पोस्ट ग्रेजुएट(एम०ए०,एम०एससी०,एम०काम०) यानि मास्टर की डिग्री की पढाई पूरी करनी पड़ती है।

पोस्ट ग्रेजुएट मे कम से कम 55%अंकों के साथ उत्तीर्ण होना जरूरी होता है। अलग-अलग यूनिवर्सिटी में अलग-अलग मानक होता है ।किसी यूनिवर्सिटी में 55%-60% भी हो सकता है। Ph.D. करने के लिए अब पोस्ट ग्रेजुएट के बाद

नेट परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य है।अब आपको Ph.D.  करने के लिए पोस्ट ग्रेजुएट करने के बाद नेट परीक्षा पास करना होगा। नेट परीक्षा पास करने के बाद आप जिस यूनिवर्सिटी से Ph.D.करना चाहते है तो उस यूनिवर्सिटी का भी entrance exam होता है उसे भी आपको पास करना होगा।उसके बाद आप उस यूनिवर्सिटी से Ph.D कर सकते हैं।

पीएच०डी० कोर्स के लिए फीस

   पीएच०डी०कोर्स के लिये फीस कोई फिक्स नहीं होती है। अलग-अलग कालेज या यूनिवर्सिटी का फीस अलग होता है। यह कालेज या यूनिवर्सिटी के उपर निर्भर करता है।आप अगर प्राइवेट कालेज से पीएच०डी०करते हैं तो आपको खर्चा अधिक पडेगा।यदि आप सरकारी कालेज से करते हैं तो आपको खर्चा कम आएगा।

Ph.D. कोर्स करने के फायदे क्या है?

  • किसी यूनिवर्सिटी मे प्रोफेसर या शोधकर्ता के रूप में अपना कैरियर बना सकते हैं।
  • यदि आप पहले से टीचिंग लाइन में हैं तो प्रमोशन के लिए पी.एचडी कर सकते हैं।
  • पीएच.डी करने के बाद आपको डॉक्टर की उपाधि प्रदान की जाती है।
  • डॉक्टरेट डिग्री आपको शोध करने के लिए अच्छी ट्रेनिंग देती है।
  • पीएच.डी.प्रोफेसर किताबें और आर्टिकल्स भी लिखते है, इसमे भी आप अपना कैरियर बना सकते है।

पीएच०डी० कोर्स कैसे किया जाता है?

  पीएच०डी० करने के लिए सबसे पहले 10वीं व 12वीं पास करना होता है।12वीं मे आप उसी विषय का चयन करना है जिस विषय में आपकी रुचि है या आप जिस विषय से आपको पीएच०डी० करना है। और अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए प्रयास करना चाहिए। 12वीं के बाद आपको स्नातक की पढाई पूरी करनी है।

स्नातक मे भी उसी विषय का चयन करना है जिस विषय से आप12वीं पास किए हैं। स्नातक मे भी अच्छे अंक से पास होने के लिए प्रयास करना चाहिए। स्नातक की डिग्री प्राप्त करने के बाद परास्नातक यानि पोस्ट ग्रेजुएट की पढाई पूरी करनी है। इसमें भी उसी विषय का चयन करना है जो विषय आपका स्नातक मे है।

आपको पोस्ट ग्रेजुएट कम से कम 55%.अंकों के साथ पास करना जरूरी होता है, वरना आप पीएच०डी० नहीं कर पाएंगे।पोस्ट ग्रेजुएट मे आपको आपकी विषय पर अच्छी पकड़ होनी चाहिये। इसके बाद आपको नेट परीक्षा पास करना होता हैं। नेट परीक्षा पास करने के बाद आप जिस यूनिवर्सिटी से पीएच०डी० करना चाहते है तो उस यूनिवर्सिटी का entrance examहोता है उसे भी आपको पास करना होता है। entrance exam मे आपको अच्छे अंक लाने का प्रयास करना चाहिए जिससे आप पीएच०डी०मे प्रवेश पा सके।

    यहां पर मैंने पीएच०डी० करने के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई है, यदि इस जानकारी से सम्बंधित कोई और जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं या आपके मन में इससे सम्बन्धित कोई सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूँछ सकते हैं।उम्मीद है हमारी आज की पोस्ट आपको पसंद आयी होगी।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.