Share Market क्या है ? पूरी जानकारी हिंदी में

1

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

अधिकतर लोग शेयर बाजार ( share market) से डरते हैं जबकि शेयर बाजार अमीर बनने का एक बहुत ही अच्छा माध्यम है। शेयर बाजार तेजी से अधिक पैसा कमाने का माध्यम है। शेयर बाजार में अधिकतर लोगों को नुकसान भी होता है। शेयर बाजार में निवेश करने से पहले बहुत से लोग इसका अध्ययन नहीं करते हैं।

अगर हम 10,000 का मोबाइल खरीदते हैं तो बहुत सारे मोबाइल देखते हैं, उनके Review  देखते हैं, दोस्तों से भी पूछते हैं, लेकिन शेयर बाजार में बहुत से लोग लाखों का इन्वेस्टमेंट बिना सोचे समझे और लोगों की देखा-देखी में कर देते हैं, जिसके कारण लोगों को शेयर बाजार में निवेश करने से लाखों का नुकसान हो जाता है।

शेयर बाजार में निवेश करने से पहले आपको इसका ज्ञान होना आवश्यक होता है। आज हम इस पोस्ट में बताएंगे कि शेयर बाजार क्या होता है, शेयर बाजार में शेयर कब खरीदनी चाहिए, शेयर बाजार में निवेश कैसे करें, शेयर बाजार कैसे काम करता है, इसके फायदे और नुकसान क्या है , तो आइए जानते हैं शेयर बाजार के बारे में।

शेयर बाजार ( Share market or Stock market ) क्या होता है ?

शेयर बाजार या स्टाक मार्केट वह बाजार है, जहाँ NSE (National Stock Exchange) और BSE ( Bombay Stock Exchange) में रजिस्टर्ड किसी भी कम्पनी के शेयर्स को स्टाक एक्सचेंज में रजिस्टर्ड स्टाक ब्रोकर्स के माध्यम से खरीदा और बेचा जाता है। किसी कम्पनी का शेयर खरीदने का मतलब होता है उस कम्पनी में हिस्सेदार बन जाना।

जैसे कि किसी कम्पनी के100 शेयर्स हैं, उनमें से आप एक शेयर खरीद लेते हैं तो आप उस कम्पनी के 1% के हिस्सेदार बन जाते हैं और जब उस कम्पनी को फायदा या नुकसान होता है, तो वह आपके साथ भी उस फायदे या नुकसान को आपके प्रतिशत के हिसाब से शेयर करता है।

शेयर बाजार ( Share market ) में निवेश कैसे करें ?

शेयर बाजार में निवेश करने से पहले आपको शेयर बाजार के बारे में जानकारी प्राप्त होना जरूरी होता है, क्योंकि इस शेयर बाजार में रिस्क भी बहुत होता है। किसी भी कम्पनी के शेयर्स को खरीदने से पहले उस कम्पनी के बैकग्राउंड डिटेल्स को अच्छे से चेक कर लेना चाहिए। उसके बाद ही आपको शेयर बाजार में निवेश करना चाहिए।

शेयर बाजार (Share market) में शेयर कब खरीदनी चाहिए ?

1.अगर आप किसी कम्पनी के शेयर खरीदते है तो आप उस कम्पनी में पार्टनर बन जाते हैं। अब आप कम्पनी के लाभ और हानि दोनों में आप हिस्सेदार बन जाते हैं। साथ ही किसी कम्पनी के काम को केवल शेयर के किमत से नहीं आँका जा सकता है क्योंकि शेयर बाजार में भाव कुछ भी हो सकता है।

अगर आपको शेयर बाजार में निवेश करना है तो आप एक अच्छी कम्पनी का पार्टनर बनिए तथा साथ ही शेयर को खरीदते समय कम्पनी और उसके बिजनेस पर ध्यान दे ना कि उसकी किमत पर। अधिकतर लोग उस कम्पनी का शेयर खरीदते हैं जो तेजी से बढ़ रहे होते हैं। उन्हें कम्पनी और उसके काम से कोई मतलब नहीं होता है, इसलिए अधिकतर लोगों को शेयर बाजार में नुकसान हो जाता है।

2.एक बुद्धिमान निवेशक वो होता है जो उम्मीदों में शेयर बेचता है जब शेयर बहुत महँगें होते हैं और निराशा में शेयर खरीदता है, जब शेयर बहुत सस्ता होता है। यानि कि शेयर बाजार हमेशा ऊपर, नीचे होता रहता है।

जैसे ही शेयर बाजार में अच्छी खबर आती है तो शेयर बाजार ऊपर चला जाता है वहीं निगेटिव यूज में शेयर बाजार नीचे चला जाता है। यहां बुद्धिमान निवेशक शेयर तब खरीदता है जब अधिकतर लोग डर के कारण एक अच्छे शेयर को बेच रहे होते हैं और शेयर बेचता तब है जब अच्छा समय चल रहा होता है और शेयर का भाव अच्छा चल रहा होता है।

जैसे –अमेजन, फ्लिपकार्ट या और किसी शाप में जब सेल लगती है, तब हम सामान खरीदते हैं। उसी तरह शेयर बाजार में भी सेल का इन्तजार करें। जब शेयर के भाव नीचे हो तब शेयर बाजार में इन्वेस्ट करें। लेकिन हमेशा इसके उल्टा होता है जब शेयर बाजार नीचे होता है तो लोग दूर भागते हैं और जब शेयर बाजार ऊपर होता है तो लोग निवेश करते हैं।

E-Commerce क्या होता है?

3.किसी शेयर में आप कितना अधिक फायदा कमाते हैं, ये आप पर निर्भर करता है कि आप उसे कितने में खरीदे हैं। अगर आप किसी शेयर को महँगी कीमत पर खरीदते हैं तो आपको रिटर्न भी कम मिलेगा। इसे आप ऐसे समझ सकते हैं कि कोई निवेशक किसी शेयर को बेचते समय असली मुनाफा नहीं कमाता, वह असली मुनाफा उसे खरीदते समय कमाता है। वह इन्तजार करता है कि शेयर की कीमत कम हो और फिर उसे खरीदे।

4.आप शेयर बाजार में कितना भी ध्यानपूर्वक रहे लेकिन एक रिस्क हमेशा बना रहता है। कभी भी किसी शेयर को उसके रियल वैल्यू से ज्यादा पर नहीं खरीदनी चाहिए, चाहे वह शेयर आपको कितना भी लुभावना क्यों न लगे। शेयर बाजार में कितना भी ध्यानपूर्वक रहने के बाद भी एक रिस्क बना रहता है।

जैसे – नीरव मोदी के कारण देश के दूसरे बड़े बैंक पंजाब नेशनल बैंक का शेयर गिर गया। यहां निवेशकों को थोड़े ही पता था कि बैंक में घोटाला चल रहा है।

5.अगर आप सोच समझ के धैर्य के साथ निवेश करते है तो शेयर बाजार कि बुरी से बुरी स्थिति में भी आप बचे रह सकते हैं। आप खुद का अनुशासन और साहस डेवल्प करते हैं और दूसरे लोगों की सलाह में नहीं पड़ते हैं, जो आपकी फाइनेंशियल सक्सेस में बाधा डालते हैं। आपके इनवेस्टमेंट व्यवहार से ज्यादा महत्वपूर्ण आप के खुद का व्यवहार होता है।

शेयर बाजार (Share market) कैसे काम करता है ?

शेयर बाजार में शेयर खरीदने के लिए आपके पास एक डीमेट अकाउंट (Demat account) होना आवश्यक होता है। डीमेट अकाउंट खुलवाने के दो तरीक़े होते हैं –
1.आप किसी एक स्टाक एक्सचेंज में रजिस्टर्ड ब्रोकर के पास जाकर अपना डीमेट अकाउंट खोल सकते हैं।
2.आप किसी भी बैंक में जाकर भी अपना डीमेट अकाउंट खुलवा सकते हैं। लेकिन आप अगर एक रजिस्टर्ड ब्रोकर के पास से अपना अकाउंट खुलवाते है तो आपको उससे ज्यादा फायदा भी होता है और स्टाक ब्रोकर से अच्छा सपोर्ट भी मिल जाता है।

डीमेट अकाउंट खुलवाने के लिए आपका किसी भी बैंक में एक बचत खाता (saving account) होना बहुत जरुरी होता है और प्रूफ के लिए पैनकार्ड औल एड्रेस प्रूफ होने चाहिए। तभी आपका डीमेट अकाउंट खुलता है। डीमेट अकाउंट के द्वारा ही हम NSE (National stock exchange) और BSE (Bombay stock exchange) के शेयर्स की ट्रेडिंग कर सकते हैं। डीमेट अकाउंट में ही हमारे शेयर के पैसे रखें जाते हैं।

अगर आप शेयर बाजार में निवेश कर रहे हैं तो फिर आपका डीमेट अकाउंट होना बहुत ही जरूरी होता है क्योंकि जब आपको शेयर बाजार में निवेश करने पर जो पैसे मिलते हैं वो सारे पैसे आपके डीमेट अकाउंट में ही जाते हैं इसके बाद आप डीमेट अकाउंट से लिंक कर अपने बैंक अकाउंट में उन पैसों को ट्रांसफर करके निकाल सकते हैं।

शेयर बाजार (share market )के क्या फायदे हैं ?

1.शेयर बाजार एक ऐसा बाजार है जिसमें आप तेजी से पैसा कमा सकते हैं।
2.शेयर बाजार में आप जितना चाहे उतना पैसा से निवेश कर सकते हैं। इसमें कोई बंदिशें नहीं होती है।
3.अगर आप अधिक पैसा कमाना चाहते हैं तो शेयर बाजार एक अच्छा विकल्प है।
4.आप जिस कम्पनी का शेयर खरीदते हैं तो आप उस कम्पनी का हिस्सा भी बन जाते हैं, यानि कि आप उस कम्पनी के हिस्सेदार भी हो जाते हैं।
5.जब कम्पनी को लाभ होता है तो आप के द्वारा लाभ में हिस्सेदार हो जाते हैं।
6.शेयर बाजार में आपको अनलिमिटेड लाभ हो सकता है। आप जितना भी इन्वेस्ट करेंगे, उतना ही लाभ पा सकेंगे क्योंकि इसमें कोई बंदिशें नहीं होती है।
7.शेयर बाजार में जो रिटर्न मिलता है वो किसी बैंक के Fds से अच्छा मिलता है।
8.शेयर बाजार में कम्पनी आपको समय-समय पर डिविडेंड इनकम (Dividend income) देती रहती है।

शेयर बाजार (Share market) के नुकसान क्या है ?

1.शेयर बाजार में निवेश करने के में रिस्क भी बहुत होता है।
2. आप शेयर बाजार में सीधे शेयर बाजार में जाकर कोई भी शेयर खरीद या बेच नहीं सकते हैं।
3.शेयर बाजार की जानकारी नहीं होने के कारण लाखों का नुकसान हो सकता है।
4.शेयर बाजार में किया गया निवेश अस्थिर होता है क्योंकि शेयरों की कीमतों में एक दिन में ही बहुत बार उतार -चढ़ाव देखने को मिलता है।

1 Comment
  1. Jai prakash Kushwaha says

    Good information….

Leave A Reply

Your email address will not be published.