Pan card क्या है ? इसकी आवश्यकता क्या है ?

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

 

हैलों, दोस्तों एक बार फिर आपका मेरे ब्लाग में स्वागत है । आज हम इस पोस्ट में बताएंगे कि पैन कार्ड क्या है? पैन कार्ड की आवश्यकता क्यों पड़ती है ? पैन कार्ड के लिए आवेदन कैसे कर सकते है ? तो आइए जानते हैं  पैन कार्ड के बारे में-

आज के समय में अगर आपको किसी भी बैंक में खाता(Account) खोलना(Open) है तो आप बिना पैन कार्ड (Pan Card) के खाता नहीं खोल सकते। इस लिए प्रत्येक व्यक्ति को जिसका पहले से बैंक खाता है तो उन कि बैंक में अपना पैनकार्ड अपडेट (Update) करवाना है तथा जिनका बैंक में खाता नहीं है तो खोलवाने के लिए पैन कार्ड की आवश्यकता है।

Pan card (पैन कार्ड ) क्या है ?

पैन कार्ड इन कम टैक्स(Income tax) के द्वारा जारी किया हुआ स्थाई खाता संख्या (Permanent Account Number) है जो एक व्यक्ति को एक नम्बर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income tax department) के द्वारा अनुमति दिया जाता है । यदि आपका बैंक में खाता नहीं है और आपको खाता खोलवाना(Open) है तो आपको पैन कार्ड की आवश्यकता पड़ती है क्यों कि बिना पैन कार्ड के आप खाता नहीं खोल सकते हैं।

इस के बाद कुछ टीडीएस ( TDS-Tax Deduction At Source) के नियम होते हैं। अगर कुछ Income आप की टीडीएस के अन्तर्गत आती है तो आपका Income पेयर आपका टेक्स डिडक्शन करले गात था आपका पैन नंबर नहीं होने के कारण सामान्यतः जो दर है उस से कहीं ज्यादा यानि 20% की दर से आप की इनकम पर टीडीएस किया जाएगा।इसके अलावा वो टीडीएस आपको रीफन्ड (Refund) भी नहीं मिलेगा चाहे आप की इनकम टैक्सेबल इनकम स्लैब(Taxable Income Slab) से कम ही क्यों न हो।

अगर आप की इनकम टैक्सेबल स्लैब से कम होती है तब Income Tax रिटर्न हाइलिंग होने पर Income Tax डिपार्टमेंट आपको री फन्ड कर देगा। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को पैन कार्ड बनवाने चाहिए तथा बैंक, पोस्ट आफिस को अपना पैन नम्बर अपडेट करवा देना चाहिए ताकि अगर TDS कटता है तो वह सामान्य दर में कटे तथा आपको Income Tax डिपार्टमेंट के द्वारा आइटी आर फाईल करने पर अगर आपकी इनकम टैक्सेबल स्लैब से कम होती है तो आप को रीफन्ड के रूप में वापस मिल जाएगी।

Pan Card के फायदे या आवश्यकता क्या है ?

  • आयकर रिटर्न, किसी भी आयकर अधिकारी के साथ सभी पत्राचार के लिए पैन लिखना अनिवार्य है। 1 जनवरी 2005 से आयकर विभाग को देय किसी भी भुगतान के लिए चालान पर पैन लिखना अनिवार्य हो गया {Section 139 A (5) (a) and (b)} वित्तीय प्रत्यक्ष कर के केन्द्रीय बोर्ड द्वारा समय-समय पर अधिसूचित वित्तीय लेनदेन से संबंधित सभी दस्तावेजों में भी पैन लिखना अनिवार्य है।
  • आप किसी भी सरकारी या गैर-सरकारी संस्था में पैन कार्ड को आइडी प्रुफ के रूप में प्रस्तुत कर सकते हैं। भारत सरकार द्वारा जारी यह कार्ड हर जगह मान्य होते हैं।
  • पैन कार्ड की सहायता से हम अपना डीमेट खाता (Demate Account) खोलवा सकते हैं।
  • आपको बैंक में खाता खोलना है तो आपको पैन कार्ड की आवश्यकता पड़ती है। बिना पैन कार्ड के आप बैंक में खाता नहीं खोल सकते हैं।
  • यदि आप डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड बनवाना चाहते है तो भी पैन कार्ड की आवश्यकता होती है।
  • अगर आपन या बिजनेस शुरू करते हैं तो भी पैनकार्ड की आवश्यकता पड़तीहै।
  • 5 लाख से अधिक अचल संपत्ति खरीदने पर आपको पैन कार्ड की जरुरत होती है।

Mutual Funds क्या है ? म्यूच्यूअल फंड्स के क्या फायदे हैं ?

  • गाड़ी खरीदने तथा बेचने पर या 1लाख से अधिक की सिक्योरिटी खरीद-बिक्री पर आपको पैन कार्ड की आवश्यकता पड़ती है।
  • मोबाइल या टेलीफोन खरीदने तथा कनेक्शन लेने पर भी पैन कार्ड की आवश्यकता पड़ती है।
  • होटल या रेस्टोरेंट का एक दिन का बिल अगर 25,000 से ज्यादा का आता है तो भी आप को पैनकार्ड की आवश्यकता पड़ती है।
  • बैंक में अगर बैंक ड्राफ्ट बनवाने पर या 50,000 से ज्यादा कैश का एक दिन में लेन-देन कर ना हो तो भी पैन कार्ड की आवश्यकता पड़ती है।
  • अगर आप विदेशी यात्रा कर रहे है और एक बार में 25,000 रुपये से ज्यादा खर्च आता है तो भी पैन कार्ड की आवश्यकता पड़ती है।
  • म्युचुअल फंड्स(Mutual Funds) की यूनिट खरीदने के लिए या कम्पनी के शेयर खरीदने के लिए अगर 50,000 से अधिक का भुगतान होता है तो भी पैन कार्ड की आवश्यकता पड़ती है।
  • अगर आप 5 लाख से अधिक की ज्वेलरी खरीदते हैं तो आपको पैन कार्ड की आवश्यकता पड़ती है।
  • कोई भी इन्सोरेन्श पालिसी होल्डर(Insurance Policy Holder) अगर 50,000 से ऊपर की पालिसी एक साल के अंदर लेता है तो उसे पैन कार्ड के नम्बर की आवश्यकता पड़ती है।बिना पैन कार्ड के आप कोई भी सरकारी या गैर- सरकारी बीमा पालिसी जो एक साल में 5 0,000 का बिल देती है नहीं ले सकती है।

Pan Card बनवाने के लिए क्या Documents होने चाहिए ?

ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी कार्ड, इलेक्ट्रिसिटी बिल या कोई और बिल जिस में क्रेडिट कार्ड का बिल भी शामिल होता है, बैंक का पास बुक जिसमें आप का फोटो लगा हो, पता लिखा हो ,और बैंक की सील लगी हो।

ये सारे डाकुमेंट्स (Documents) आपके लिए आपके आइडी प्रुफ और पता दोनों के लिए है।उसके बाद बर्थ सर्टिफिकेट या हाई स्कूल की मार्कशीट जन्म का प्रमाण देने के लिए होता है।अगर आप आधार कार्ड लगाते हैं तो यह Id Proof, Birth Proof, तथा Address  तीनों का ही प्रमाण दे सकता है। और साथ में दो फोटोग्राफ भी होते हैं।

 

https://www.pan.utiitsl.com/PAN/

Pan Card के लिए कहाँ और कैसे आवेदन करें ?

पैन कार्ड से सम्बंधित सेवाओं में सुधार करने के लिए आयकर विभाग ने {UTIISL- (UTIUnit Trust Of India) Infrastructure Technology And Services Limited} को अधिकृत  टीन (TIN-Taxpayer Identification Number)  सुविधा केन्द्रो से उन सभी शहरों और कस्बों में आई पैन सेवा केंद्र स्थापित करने व प्रबंधित करने के लिए अधिकृत किया गया है जहाँ आयकर कार्यालय है।इन्हीं आइटी पैन सेवा केन्द्र से आवेदन कर सकते हैं।

पैन का आवेदन केवल फार्म 49A पर ही किया जाना चाहिए। फार्म 49A आयकर विभाग या UTIISL या NSDL(National Securities Depository Limited) से डाउन लोड किया जा सकता है या स्थानीय प्रिंटर द्वारा फोटो कॉपी या किसी अन्य स्त्रोत से प्राप्त किया जाता है।

पैन कार्ड को आनलाइन आवेदन करने के लिए सबसे पहले NSDL की वेबसाइट खोले। वेबसाइट पर उपलब्ध 49A  Application Form भरे। सभी डिटेल्स भरने के बाद आपको फीस भरनी होती है।पैन कार्ड बनवाने के लिए 110 रुपये फीस लगती है। फीस की पेमेंट आप क्रेडिट/डेबिट/नेट बैंकिंग या डिमांड ड्राफ्ट से कर सकते हैं।

फीस सबमिट होने के बाद आपको एक अकनालेजमेन्ट(Acknowledgement) स्लिप मिलेगी। Acknowledgement स्लिप मिलने के बाद आपको जरूरी डाकुमेंट्स(Documents) को NSDL (National Securities Depository Limited) के दफ्तर भेजना होगा ।इस के बाद ही आपके पैन कार्ड बनने की प्रक्रिया शुरू होगी।

Pan Card पर अंकित 10 अंकों का क्या अर्थ है ?

पैन कार्ड के नम्बर क्या दर्शाता है इस के बारे में शायद ही आपको पता हो । पैन कार्ड के नम्बर को आयकर विभाग जारी करता है तो आइए जानते हैं पैन कार्ड के इन नम्बरों के बारे में।

Pan Card के शुरू के 3 अक्षरों का अर्थ

पैन कार्ड के शुरुआत में 3 पहले अंग्रेजी के अक्षर होते हैं।ये तीनों अक्षर एक ही सीरीज में होते हैं।ये सीरीज A से लेकर Z तक हो सकता है।

Pan Card के चौथे अक्षर का अर्थ

पैन कार्ड का चौथा अक्षर पैन कार्ड रखने वाले का स्टेटस बताता है। जैसे-P अक्षर प्राइवेट कार्य के लिए उपयोग, F  अक्षर का अर्थ किसी फर्म के लिए।

Pan Card के पाँचवें अक्षर का अर्थ

पैन कार्ड का 5वां अक्षर सर  नेम का पहला अक्षर होता है तथा कम्पनी का कार्ड होने पर कम्पनी के नाम का पहला अक्षर होता है।

Pan Card में 6वें से 9वें तक के अक्षरों का अर्थ

पैन कार्ड के 6वें से 9वें अंक तक एक सीरीज में होता है। जैसे- 0111 से लेकर 9999 तक हो सकती है।

Pan Card में आखिरी अक्षर का अर्थ

पैन कार्ड का आखिरी अंक आयकर विभाग के फार्मूले के तहत दिया जाता है।

दोस्तों हमने इस पोस्ट में बतायें कि पैन कार्ड लोगों के लिए कितना महत्वपूर्ण है और इसकी कितनी आवश्यकता पड़ती है। आशा करते है कि इस पोस्ट से आपको Pan Card के बारें में आवश्यक जानकारी प्राप्त हुई होगी। आगे की post में कुछ नई लायेगें आपकी सेवा में ।

 

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.