Fastag क्या है ? कैसे मिलेगा गाड़ी के लिए फास्टैग ? फुल गाइड

फास्टैग के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में :

आपने कई बार देखा होगा कि टोल प्लाजा पर लम्बीलम्बी लाइनें लगी होती है। लोगों के पास बड़ा कैश होता है तो चेन्ज देने में काफी समय लग जाता है और इस तरह से लोगों का काफी समय लग जाता है, जिससे लोगों का काफी समय का नुकसान होता है।

इससे निपटने के लिए भारत सरकार ने FASTag कार्ड को लगवाना जरूरी कर दिया गया है। Fastag एक डिवाइस है जिसकी मदद से बिना कैश के ही टोल प्लाजा पर भुगतान कर सकते हैं। आइए जानते हैं इसके बारे में क्या है Fastag ।

Fastag क्या है ?

Fastag भारत में एक इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह या Electronic toll collection प्रणाली है, जिसे भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण( NHAI -National Highway Authority of India) द्वारा संचालित किया जाता है। यह सीधे या सीधे टोल मालिक से जुड़े प्रीपेड या बचत खाते से टोल भुगतान करने के लिए रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID-Radio Frequency Identification) तकनीकी को नियोजित करता है। इसे वाहन के विंडस्क्रीन पर चिपका दिया जाता है और लेनदेन के लिए रोक के बिना टोल प्लाजा के माध्यम से ड्राइव करने में सक्षम है।

Fastag कहाँ से खरीदे ?

Fastag खरीदने के लिए आप राष्ट्रीय राजमार्ग फीस प्लाजा, डीजनल ट्रांसपोर्ट आफिस, कामन सर्विस सेंटर, ट्रांसपोर्ट हब,बैंकों के ब्रांचों जैसे SBI, Punjab National Bank,HDFC और पेट्रोल पंप के 28000 से ज्यादा “प्वाइंट्स आफ सेल लोकेशन यानि POSL” से लिए जा सकते हैं।

इसके लिए आपको KYC डाकुमेंट,RC पहचान पत्र, पासपोर्ट साइज की फोटो की जरूरत होती है।

Fastag को रीचार्ज कैसे करें ?

भारत सरकार ने 22 बैंक से अनुबंध कर रखा है जिनसे आप Fastag लगवा सकते हैं। fastag लगवाने के बाद आपको उसी बैंक से अपना  fastag रीचार्ज करना होता है। Fastag रीचार्ज करने के लिए किसी भी बैंक में जाने की जरूरत नहीं होती है। इसका आनलाइन ही पोर्टल दिया जाता है।

Fastag खरीदते समय वहां पर एक अकाउंट न बनाकर एक वालेट बनाया जाता है। उस वालेट में आप जितना अमाउंट रखते हैं उस अमाउंट का इस्तेमाल कर सकते हैं। रीचार्ज करते हुए यह जरूरी नहीं होता है कि आप उसी अकाउंट से भुगतान करें।

भुगतान करने के लिए आपको एक पेमेंट गेटवे मिलता है जैसे, आप अमेजन, फिल्पकार्ट पर कोई शापिंग करते हैं और आनलाइन पेमेंट करते हैं, उसी तरह Fastag में आनलाइन पेमेन्ट करते हैं।

Fastag में क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, इण्टरनेट बैंकिंग के माध्यम से रीचार्ज कर पाते हैं। आप एक बार में 100 रुपये से लेकर 100000 रुपये तक का रीचार्ज कर सकते हैं। इसके अलावा आप SBI , Axis, Punjab National Bank,HDFC जैसे कुछ बड़े बैंकों से भी और पेटिएम के जरिए भी रीचार्ज कर सकते हैं। रीचार्ज 5 साल तक के लिए मान्य होता है।

Fastag कैसे काम करता है ?

टोल प्लाजा पर आटोमेटिक ट्रान्जेक्शन के लिए वाहन के विन्डस्क्रीन Fastag लगाया जाता है। इसमें रेडियोफ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन लगा होता है। जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास जाती हैं तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके गाड़ी में लगा विन्डस्क्रीन में  fastag  को स्कैन करता है।

इसके बाद Fastag अकाउंट से टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क कट जाता है। fastag अकाउंट से शुल्क कट जाने पर आपको Sms द्वारा नोटिफिकेशन मिल जाती है। fastag की रकम खत्म हो जाने पर उसे रीचार्ज करानी पड़ती है।

Fastag की ज्वाइनिंग फीस कितनी होती है?

बैंक और अन्य एजेंसियाँ 200 रुपये ज्वाइनिंग फीस के रूप में लेती है। इसके अलावा आपको सिक्योरिटी फीस भी देनी होती हैं। यह फीस वाहन के हिसाब से अलगअलग होती है।

यह सिक्योरिटी फीस रिफंडेबल होता है और जब आप अपना Fastag अकाउंट बंद करते हैं तब यह आपको वापस मिल जाती है। Fastag खरीदते समय आपको कम से कम 100 रुपये का रिचार्ज कराना होता है।

Fastag किसके नाम से खरीदना होता है ?

Fastag खरीदने के लिए जो भी RC पर नाम है उसके नाम पर खरीद सकते हैं। यदि आपकी गाड़ी आपके पापा या घर के किसी सदस्य के नाम पर है और आप Fastag को अपने नाम से खरीदना चाहते हैं तो आप खरीद नहीं पाऐंगे। आपका एप्लिकेशन खारिज कर दिया जाएगा।

इसलिए जो भी RC  पर नाम है उसी नाम से Fastag  खरीदना होता है। लेकिन रीचार्ज आप किसी भी माध्यम से कर सकते हैं, उसके लिए आपको पेमेंट गेटवे मिलता है, जैसे आप Amazon, Flipkart पर पेमेंट करते हैं, उसी तरीक़े से आपको पेमेंट गेटवे दिया जाता है, उसी माध्यम से आप भुगतान कर सकते हैं।

Fastag  गाड़ी मालिक के नाम से ही परचेज करना होता है।लेकिन रीचार्ज आप किसी भी अकाउंट से कर सकते हैं।

जब हम अपनी गाड़ी बेचते हैं या हमारा fastag चोरी हो जाता है या गुम हो जाता है, तो हमें क्या करना चाहिए ?

यदि आप अपनी गाड़ी बेचते हैं तो इसमें Fastag जो होता है यह एक कार्ड होता हैजैसे आप मेट्रो का एक कार्ड खरीदते हैं वैसे ही होता है। आप जब भी चाहे उसका अमाउंट पूरा खर्च कर सकते हैं। अगर आप खर्चा नहीं करते हैं तो उसका refund भी वापस ले सकते हैं। और जो सिक्योरिटी अमाउंट होता है वह भी आपका वापस कर दिया जाता है और जब भी आप अपना गाड़ी बेचते हैं तो आपका  Fastag छुड़ाकर कम्पनी को बोलकर अपना रीफन्ड रिक्वेस्ट दे सकते हैं।

  Fastag में आप 100 रुपये से 1,00,000 रुपये तक का रीचार्ज कर सकते हैं। यदि आपका  fastag चोरी हो जाता है तो उसके लिए जो भी कम्पनी है आप उससे blacklist करवा सकते हैं। जिस भी बैंक का आपका Fastag है, उसको काल करके आप उसको लाक करवा सकते हैं।

Fastag लगवाने से पहले क्या सावधानियां बरतनी चाहिए ?

भारत सरकार ने 1 दिसम्बर 2019 पर सभी टोल प्लाजा पर fastag अनिवार्य कर दिया है। ऐसे में आप अगर अपने गाड़ियों में fastag नहीं लगवाते हैं तो आपको दोगुना toll tax देना पड़ेगा। Fastag का इस्तेमाल आप सही तरीके से नहीं करते हैं तो आपको अधिक नुकसान हो सकता है। fastag इस्तेमाल करते समय हमें निम्न सावधानियां बरतनी चाहिए

1.आपका जो Fastag कार्ड होता है उसको आप अपने गाड़ी पर सही तरीके से चिपकाए। यदि आप सही से नहीं चिपकाते हैं तो उनका सेंसर स्कैन काम नहीं कर पाता है। आप जब भी fastag को गाड़ी में चिपकाते हैं तो चिपकाते समय उसकी सतह को पहले सही से साफ कर लें और Fastag को अन्दर की तरफ से चिपकाएँ।

Fastag को बाहर की तरफ से नहीं चिपकाएं वरना fastag खराब हो सकता है। आप हमेशा fastag को विन्डस्क्रीन पर बीच में मिरर के पास चिपकाएं।

2.Fastag लगवाने के बाद में आपके  Fastag wallet में बैलेंस जरूर होने चाहिए। आप चाहे तो इसका बैलेंस आनलाइन पोर्टल पर जाकर चेक कर सकते हैं। अगर आप Fastag Paytm से आर्डर किए हैं तो Paytm wallet  में बैलेंस चेक कर सकते हैं।

यदि आपके Fastag wallet में पैसे नहीं है तो टोल प्लाजा पर आपका ब्लैकलिस्ट बता देता है और वहां पर पेमेंट नहीं हो पाता है और फिर आपसे दोगुना टोल टैक्स लिया जाता है। नये नियम के अनुसार आपका जो भी toll collection होगा वो आनलाइन होगा। यदि आपका पेमेंट नहीं होता है तो आपको दोगुना टोल टैक्स देना ही पड़ता है चाहे आपकी गाड़ी पर Fastag लगा ही क्यों न हो। इसलिए आप अपने fastag wallet को समय समय पर रिचार्ज करते रहिये।

3.आप जब भी टोल प्लाजा पर जाते हैं तो आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि जब भी आप Fastag lane से गुजरते हैं तो आप आगे वाली गाड़ी से थोड़ा दूरी बना के रखिए क्योंकि कभीकभी जब आगे वाली गाड़ी की fastag सही से कार्य नहीं कर रहा होता है और आप उसके पीछे लगे होते हैं और उसके नजदीक में जाकर गाड़ी खड़ी करते हैं.

तो उस गाड़ी का fastag कार्य ना करके आपकी गाड़ी का  fastag कार्य कर जाता है और स्कैन होने के बाद गेट खुल जाता है जिससे आगे वाली गाड़ी निकल जाती है। उसके बाद आपको नुकसान उठाना पड़ जाता है।

Fastag के फायदे क्या हैं ?

1.ट्रैफिक जाम कम होगा जिससे आपकी समय की बचत होगी।

2.प्लाजा पर होने वाले झगड़ों में कमी आएगी।

3.डिजिटल ट्रान्जेक्शन का बढ़ावा मिलेगा।

4. Fastag lane हमेशा खाली मिलता है जिसमें आपको कोई दिक्कत नहीं होता है।

5.आपको एक्स्ट्रा पैसा नहीं देना पड़ता है ।

6.आपके समय के साथ पेट्रोल की भी बचत होती है क्योंकि आपको अपनी बारी के लिए इंतजार नहीं करना पड़ता है। कभीकभी टोल प्लाजा पर गाड़ियों की लाइन काफी लम्बी हो जाती है और आपको गाड़ी स्टार्ट रखनी पड़ती है। लेकिन fastag के कारण आपको किसी तरह की दिक्कत नहीं होती है।

7. Fastag पेमेंट करने के लिए कुछ % का कैश बैक भी मिलता है।

8. जब भी आप किसी टोल प्लाजा को पार करेंगे तो उसका sms अलर्ट के द्वारा नोटिफिकेशन आपको मिल जाता है।

9. लेन में वाहनों की लम्बी लाइनें कम होने की वजह से प्रदूषण भी कम होता है।

10.यदि आपकी गाड़ी चोरी हो जाती है और किसी टोल प्लाजा को पार करती है तो उसका नोटिफिकेशन आपको sms के जरिये मिल जाता है।

    आज हम इस पोस्ट में फास्टैग के बारे में पूरी जानकारियां देने की कोशिश की है। उम्मीद है आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी।

Share Karo Na !
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

6 thoughts on “Fastag क्या है ? कैसे मिलेगा गाड़ी के लिए फास्टैग ? फुल गाइड”

  1. It’s fantastic that you are getting ideas from this piece of writing as well as from our dialogue made at this place.

    Reply
  2. When someone writes an article he/she maintains the thought of a user in his/her mind that how a user can know it.
    Thus that’s why this post is great. Thanks!

    Reply
  3. Aw, this was a very nice post. Taking a few minutes and actual effort to generate a great article… but what can I
    say… I procrastinate a whole lot and don’t seem to get anything done.

    Reply

Leave a Comment